Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2024 · 1 min read

सुंदरता के मायने

हाथों में किताब, आँखों में ख़्वाब रखते हों,
चेहरे पर सादगी का रूमाल रखते हो ।

तुम चाहें कुछ भी पहनों,
पर सूट सलवार में लाजवाब लगते हों ।।

चलीं जब, क्या कमाल लगतें हो,
बैठों जब, बेमिसाल लगते हों ।

सारे फूल तुम्हारे सामने हैं फीकें,
तुम खूबसूरती का गुलाब लगते हो ।।

तुम चाहें कुछ भी पहनों,
पर सूट सलवार में लाजवाब लगते हों ।

बोलों जब मिठास झड़े जैसे,
तुम शहद का मिज़ाज रखते हों ।।

तुम व्याकरण हो मेरे शब्दों की,
तुम मेरे सभी प्रश्नों के जवाब लगते हो ।

पायी हैं सूरत के साथ सीरत की भी सुंदरता,
ज़्यादा न कहकर बस इतना कहूँगा ।।

तुम मुझे कमाल लगते हो ।
तुम चाहें कुछ भी पहनों, पर सूट सलवार में लाजवाब लगते हों ।।

50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रुकना हमारा काम नहीं...
रुकना हमारा काम नहीं...
AMRESH KUMAR VERMA
Me and My Yoga Mat!
Me and My Yoga Mat!
R. H. SRIDEVI
भला दिखता मनुष्य
भला दिखता मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
नवतपा की लव स्टोरी (व्यंग्य)
नवतपा की लव स्टोरी (व्यंग्य)
Santosh kumar Miri
हर किसी पर नहीं ज़ाहिर होते
हर किसी पर नहीं ज़ाहिर होते
Shweta Soni
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।
सत्य कुमार प्रेमी
मासूमियत
मासूमियत
Surinder blackpen
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
Manisha Manjari
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
बच्चे
बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
19)”माघी त्योहार”
19)”माघी त्योहार”
Sapna Arora
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
लघुकथा कौमुदी ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सम्यक योग की साधना दुरुस्त करे सब भोग,
सम्यक योग की साधना दुरुस्त करे सब भोग,
Mahender Singh
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
Anil Mishra Prahari
राजस्थान में का बा
राजस्थान में का बा
gurudeenverma198
बुढ़ापा
बुढ़ापा
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
यादों को याद करें कितना ?
यादों को याद करें कितना ?
The_dk_poetry
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
पूर्वार्थ
*सर्दी-गर्मी अब कहॉं, जब तन का अवसान (कुंडलिया)*
*सर्दी-गर्मी अब कहॉं, जब तन का अवसान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिन्दगी की पाठशाला
जिन्दगी की पाठशाला
Ashokatv
बेजुबान तस्वीर
बेजुबान तस्वीर
Neelam Sharma
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
सफलता
सफलता
Babli Jha
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
Dr .Shweta sood 'Madhu'
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छोड़ दिया किनारा
छोड़ दिया किनारा
Kshma Urmila
"ऐ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...