Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2023 · 1 min read

सीधी मुतधार में सुधार

सीधी में टेडी मूतधार

करतूत तुम्हारी देखकर है दुःखी करतार,
गरीबी लाचारी कमजोरी पे तुमरी मूतधार,,

हद करदी अमानवीयता की लांघी मर्यादा,
जीवनुत्थान की जगह जीवन को धिक्कार,,

धन्य मीडिया और संघो को बने आवाज,
तुमरी कारसतानिया ऐसे संस्कार बेकार,,

ज्ञानी बड़े बने फिरते हो पर रखते न ज्ञान,
सत्तामद जातिदम्भ में चूर किया अत्याचार,,

बने मिशाल हो ऐसी व्यवस्था मूत शुक्ल की,
कभी निकाले न मूत मनु सामने होये सुधार,,

आपका,,,
मानक लाल मनु Manu Std विनीता मनु 🙏

Language: Hindi
2 Likes · 229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारा ऐसा हिंदुस्तान।
हमारा ऐसा हिंदुस्तान।
Satish Srijan
ख़त्म होने जैसा
ख़त्म होने जैसा
Sangeeta Beniwal
*सही सलामत हाथ हमारे, सही सलामत पैर हैं 【मुक्तक】*
*सही सलामत हाथ हमारे, सही सलामत पैर हैं 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
किस कदर है व्याकुल
किस कदर है व्याकुल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
पागल बना दिया
पागल बना दिया
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
#शुभ_रात्रि
#शुभ_रात्रि
*Author प्रणय प्रभात*
उसे लगता है कि
उसे लगता है कि
Keshav kishor Kumar
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
Anand Kumar
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
डॉ.सीमा अग्रवाल
वो किताब अब भी जिन्दा है।
वो किताब अब भी जिन्दा है।
दुर्गा प्रसाद नाग
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
झूठा घमंड
झूठा घमंड
Shekhar Chandra Mitra
मेरी नन्ही परी।
मेरी नन्ही परी।
लक्ष्मी सिंह
क्यूट हो सुंदर हो प्यारी सी लगती
क्यूट हो सुंदर हो प्यारी सी लगती
Jitendra Chhonkar
💐प्रेम कौतुक-379💐
💐प्रेम कौतुक-379💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
Manisha Manjari
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
पधारो मेरे प्रदेश तुम, मेरे राजस्थान में
gurudeenverma198
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
Awadhesh Kumar Singh
2600.पूर्णिका
2600.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Arj Kiya Hai...
Arj Kiya Hai...
Nitesh Kumar Srivastava
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
जब बहुत कुछ होता है कहने को
जब बहुत कुछ होता है कहने को
पूर्वार्थ
*आत्महत्या*
*आत्महत्या*
आकांक्षा राय
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
कवि रमेशराज
गौरैया बोली मुझे बचाओ
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
इस धरा का इस धरा पर सब धरा का धरा रह जाएगा,
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी
पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी
Anjana banda
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
Loading...