Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2021 · 1 min read

सीख

रवि से ले लो सीख तुम, उदय रोज ही होत
और होत है अस्त भी, सांझ ढले जब जोत
शीला गहलावत सीरत
चण्डीगढ़, हरियाणा

Language: Hindi
1 Like · 505 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हो रही बरसात झमाझम....
हो रही बरसात झमाझम....
डॉ. दीपक मेवाती
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
मैं जानती हूँ तिरा दर खुला है मेरे लिए ।
Neelam Sharma
विचार और रस [ दो ]
विचार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
और चौथा ???
और चौथा ???
SHAILESH MOHAN
शराब खान में
शराब खान में
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
12, कैसे कैसे इन्सान
12, कैसे कैसे इन्सान
Dr Shweta sood
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
Acharya Rama Nand Mandal
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
सजल नयन
सजल नयन
Dr. Meenakshi Sharma
मेरी शक्ति
मेरी शक्ति
Dr.Priya Soni Khare
"अकेले रहना"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरे हक़ में
तेरे हक़ में
Dr fauzia Naseem shad
*मंगलकामनाऐं*
*मंगलकामनाऐं*
*प्रणय प्रभात*
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
विमला महरिया मौज
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
Sunil Suman
यदि  हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
यदि हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
Raju Gajbhiye
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
कवि दीपक बवेजा
अकेले
अकेले
Dr.Pratibha Prakash
इश्क़ में
इश्क़ में
हिमांशु Kulshrestha
*जीवन्त*
*जीवन्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बात
बात
Ajay Mishra
होरी खेलन आयेनहीं नन्दलाल
होरी खेलन आयेनहीं नन्दलाल
Bodhisatva kastooriya
बुढ़ापा हूँ मैं
बुढ़ापा हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
3160.*पूर्णिका*
3160.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी कभी प्रतीक्षा
कभी कभी प्रतीक्षा
पूर्वार्थ
50….behr-e-hindi Mutqaarib musaddas mahzuuf
50….behr-e-hindi Mutqaarib musaddas mahzuuf
sushil yadav
Loading...