Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

सीख गांव की

गांव से सीखा है हमने
बड़ो के प्रति दिल में हो सदा
भाव उनके सम्मान का
छोटों के प्रति दिल में रहे सदा
भाव उनसे प्यार का
कहती मिट्टी गांव की सदा
थोड़ा झुक कर चला करो
मत उड़ना कभी नहीं तुम
घमंड़ से इस आसमान में
गिर जाओगे जब तुम
लजित हो इस धरा पे
कभी नज़रे न मिला किसी से पाओगे
पता सभी को एक बात है
नहीं वो ऊंचाई किसी काम की
हम जहां चडकर अपनो को ही भूल जाते है

10 Likes · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" सुन‌ सको तो सुनों "
Aarti sirsat
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
Sanjay ' शून्य'
बोट डालणा फरज निभाणा -अरविंद भारद्वाज
बोट डालणा फरज निभाणा -अरविंद भारद्वाज
अरविंद भारद्वाज
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
अनमोल वचन
अनमोल वचन
Jitendra Chhonkar
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
Manisha Manjari
"फर्क"
Dr. Kishan tandon kranti
कोई विरला ही बुद्ध बनता है
कोई विरला ही बुद्ध बनता है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जब मैं मंदिर गया,
जब मैं मंदिर गया,
नेताम आर सी
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
bharat gehlot
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
🙅झाड़ू वाली भाभी🙅
*प्रणय प्रभात*
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
पूर्वार्थ
3479🌷 *पूर्णिका* 🌷
3479🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
Paras Nath Jha
आदमी और मच्छर
आदमी और मच्छर
Kanchan Khanna
*मायूस चेहरा*
*मायूस चेहरा*
Harminder Kaur
लगा समंदर में डुबकी मनोयोग से
लगा समंदर में डुबकी मनोयोग से
Anamika Tiwari 'annpurna '
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Rj Anand Prajapati
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
जिन्दगी हमारी थम जाती है वहां;
manjula chauhan
आचार्य - डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
आचार्य - डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
न जाने वो कैसे बच्चे होंगे
Keshav kishor Kumar
चुनावी युद्ध
चुनावी युद्ध
Anil chobisa
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
दहेज.... हमारी जरूरत
दहेज.... हमारी जरूरत
Neeraj Agarwal
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
कुमार
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
महिला दिवस
महिला दिवस
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मैं हर रोज़ देखता हूं इक खूबसूरत सा सफ़र,
मैं हर रोज़ देखता हूं इक खूबसूरत सा सफ़र,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...