Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Dec 2023 · 1 min read

सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए

सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
रिश्ते में कभी गहराई नहीं होती,
वहीं दिल से बनाये रिश्तों में
कभी रिहाई नहीं होती।
दूर रहकर भी जो बसते हैं
हमारे दिल में हीं
ऐसे रिश्ते में ताउम्र
जुदाई नहीं होती ।

1 Like · 99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रूठे लफ़्ज़
रूठे लफ़्ज़
Alok Saxena
"ज्ञ " से ज्ञानी हम बन जाते हैं
Ghanshyam Poddar
#मैथिली_हाइकु
#मैथिली_हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
Rj Anand Prajapati
◆ आज का दोहा।
◆ आज का दोहा।
*Author प्रणय प्रभात*
बाल चुभे तो पत्नी बरसेगी बन गोला/आकर्षण से मार कांच का दिल है भामा
बाल चुभे तो पत्नी बरसेगी बन गोला/आकर्षण से मार कांच का दिल है भामा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*सुनहरे स्वास्थ्य से अच्छा, सुनहरा पल नहीं होता(मुक्तक)*
*सुनहरे स्वास्थ्य से अच्छा, सुनहरा पल नहीं होता(मुक्तक)*
Ravi Prakash
आंखों देखा सच
आंखों देखा सच
Shekhar Chandra Mitra
I hide my depression,
I hide my depression,
Vandana maurya
खाना खाया या नहीं ये सवाल नहीं पूछता,
खाना खाया या नहीं ये सवाल नहीं पूछता,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
2460.पूर्णिका
2460.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
फसल , फासला और फैसला तभी सफल है अगर इसमें मेहनत हो।।
फसल , फासला और फैसला तभी सफल है अगर इसमें मेहनत हो।।
डॉ० रोहित कौशिक
हम रहें आजाद
हम रहें आजाद
surenderpal vaidya
तब तात तेरा कहलाऊँगा
तब तात तेरा कहलाऊँगा
Akash Yadav
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
मेरे होंठों पर
मेरे होंठों पर
Surinder blackpen
साहिल के समंदर दरिया मौज,
साहिल के समंदर दरिया मौज,
Sahil Ahmad
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
manjula chauhan
चले आना मेरे पास
चले आना मेरे पास
gurudeenverma198
क्षणिक स्वार्थ में हो रहे, रिश्ते तेरह तीन।
क्षणिक स्वार्थ में हो रहे, रिश्ते तेरह तीन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नर नारी
नर नारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
परिवर्तन विकास बेशुमार
परिवर्तन विकास बेशुमार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जबरदस्त विचार~
जबरदस्त विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
आज तो ठान लिया है
आज तो ठान लिया है
shabina. Naaz
सरस्वती वंदना-3
सरस्वती वंदना-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
Loading...