Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2021 · 1 min read

सिद्धार्थ से वह ‘बुद्ध’ बने…

मोह माया में रमा नहीं,
वह महामाया का लाल हुआ,
राज-पाट के महलों में जन्मा,
राजा शुद्धोधन का ‘सिद्धार्थ’ हुआ,
सिद्धार्थ से वह ‘बुद्ध’ बने …..।।१।

आनंद विलास के भ्रमित संसार में,
यशोधरा से विवाह हुआ,
जन्म-मरण के जीवन में,
राहुल पुत्र का सौभाग्य मिला,
सिद्धार्थ से वह ‘बुद्ध’ बने …..।।२।

छन्दक कंथक को ले सिद्धार्थ संग,
राज भ्रमण को साथ चला ,
भेंट हुई बीच राह में,
वह चार दृश्य संसार का ,
सिद्धार्थ से वह ‘बुद्ध’ बने …..।।३।

झुकी कमर लाठी की टेक में,
निर्बल प्राणी बाल सफेद थे,
देख वह ‘बूढ़ा’ बुजुर्ग संसार में,
मन में एक सवाल जगा,
सिद्धार्थ से वह ‘बुद्ध’ बने …..।।४।

पीड़ा से तड़प रहा था ,
ऐसा एक अनजान मिला,
आंँखों में आंँसू लिए हुए ,
‘रोगी’ से विचार हुआ,
सिद्धार्थ से वह ‘बुद्ध’ बने …..।।५।

शोक में डूबे भीड़ जगत में,
कंधों में जाता एक इंसान मिला,
एक दिन सबको जाना है त्याग जीवन को,
‘मृत शरीर’ होने का एहसास हुआ,
सिद्धार्थ से वह ‘बुद्ध’ बने …..।।६।

जीवन में दुख है सुख अस्थायी,
मिला राह में एक ऐसा राही,
प्रसन्न मन और उज्जवल चित्त लिए,
‘सन्यासी’ दिख रहा खुश था,
सिद्धार्थ से वह ‘बुद्ध’ बने …..।।७।

छन्दक ने बताया कुँवर को,
प्राणी होते प्राण है जिसमें,
बच न सका कोई दुख के संसार में,
मानव का कल्याण करें,
सिद्धार्थ से वह ‘बुद्ध’ बने …..।।८।

रचनाकार-
****बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर ।

8 Likes · 4 Comments · 1300 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
पूर्वार्थ
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
subhash Rahat Barelvi
खुद की नज़रों में भी
खुद की नज़रों में भी
Dr fauzia Naseem shad
ये कैसा घर है. . .
ये कैसा घर है. . .
sushil sarna
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
एक अजीब सी आग लगी है जिंदगी में,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
!! सत्य !!
!! सत्य !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
2461.पूर्णिका
2461.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
Suryakant Dwivedi
जीवन
जीवन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
घरौंदा
घरौंदा
Dr. Kishan tandon kranti
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रिश्ता रस्म
रिश्ता रस्म
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*
*"हलषष्ठी मैया'*
Shashi kala vyas
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
चौकीदार की वंदना में / MUSAFIR BAITHA
चौकीदार की वंदना में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
करके कोई साजिश गिराने के लिए आया
करके कोई साजिश गिराने के लिए आया
कवि दीपक बवेजा
*माता (कुंडलिया)*
*माता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सूरज ढल रहा हैं।
सूरज ढल रहा हैं।
Neeraj Agarwal
न कुछ पानें की खुशी
न कुछ पानें की खुशी
Sonu sugandh
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
✍️♥️✍️
✍️♥️✍️
Vandna thakur
जुगनू
जुगनू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
मैं जान लेना चाहता हूँ
मैं जान लेना चाहता हूँ
Ajeet Malviya Lalit
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...