Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Dec 2023 · 1 min read

***** सिंदूरी – किरदार ****

***** सिंदूरी – किरदार ****
***********************

चाहत मेरी बस है इतनी,
तेरे गले का गलहार बनूँ।

तन-मन की हो सुंदर बगिया,
कंचन काया का शिंगार बनूँ।

प्रिय तेरे ही जीवन पथ का,
संगी – साथी वफादार बनूँ।

मांग अधूरी झट पूरी कर दूं,
तेरे काफ़िले का सरदार बनूँ।

मीठे रस से कड़वापन हर दूँ,
तरुवर मधुरिम फलदार बनूँ।

मनसीरत दो दिन का जीवन,
माथे का सिंदूरी किरदार बनूँ।
**********************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*पैसा ज्यादा है बुरा, लाता सौ-सौ रोग*【*कुंडलिया*】
*पैसा ज्यादा है बुरा, लाता सौ-सौ रोग*【*कुंडलिया*】
Ravi Prakash
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
हमने बस यही अनुभव से सीखा है
कवि दीपक बवेजा
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
💐प्रेम कौतुक-272💐
💐प्रेम कौतुक-272💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
शेखर सिंह
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
ऊपर से मुस्कान है,अंदर जख्म हजार।
लक्ष्मी सिंह
3117.*पूर्णिका*
3117.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किसान
किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गिलोटिन
गिलोटिन
Dr. Kishan tandon kranti
हे नाथ कहो
हे नाथ कहो
Dr.Pratibha Prakash
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
बोलो!... क्या मैं बोलूं...
Santosh Soni
Dear  Black cat 🐱
Dear Black cat 🐱
Otteri Selvakumar
कर्म-बीज
कर्म-बीज
Ramswaroop Dinkar
एक एक ख्वाहिशें आँख से
एक एक ख्वाहिशें आँख से
Namrata Sona
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
Ankita Patel
नवीन और अनुभवी, एकजुट होकर,MPPSC की राह, मिलकर पार करते हैं।
नवीन और अनुभवी, एकजुट होकर,MPPSC की राह, मिलकर पार करते हैं।
पूर्वार्थ
वो इँसा...
वो इँसा...
'अशांत' शेखर
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
★आईने में वो शख्स★
★आईने में वो शख्स★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मिट्टी
मिट्टी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
gurudeenverma198
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तेरे ख़त
तेरे ख़त
Surinder blackpen
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
कृष्ण मलिक अम्बाला
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
आंखन तिमिर बढ़ा,
आंखन तिमिर बढ़ा,
Mahender Singh
मन का मिलन है रंगों का मेल
मन का मिलन है रंगों का मेल
Ranjeet kumar patre
Loading...