Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2022 · 1 min read

साहस

साहस व्यक्ति विशेष का वह अंतर्निहित गुण है, जो उसे निर्भीकता से संकटों से सामना करने के लिए प्रेरित करता है।
साहसी व्यक्ति भय की काल्पनिकता से निरापद रहकर आत्मविश्वास से परिपूर्ण योजनाबद्ध तरीके से संकटों के निराकरण का हल वास्तविकता के धरातल पर ढूंढता है।
किसी समस्या से निपटने के लिए वह अपनी व्यक्तिगत सोच पर निर्भर रहता है , तथा समय नष्ट न करते हुए व्यवहारिकता को दृष्टिगत रखकर तुरंत कार्य निष्पादन हेतु निर्णय लेता है।
साहसी व्यक्ति के लिए कोई भी कार्य असाध्य प्रतीत नहीं होता है। वह हमेशा व्यक्तिगत स्वार्थ से ऊपर उठकर लोकहित के बारे में सोचता है।
विपरीत परिस्थितियों में भी उसका मनोबल नहीं टूटता और वह सतत् संघर्षरत रहकर सफलता प्राप्त करने का प्रयास करता रहता है।
किसी भी कार्य को निष्पादित करने में उसकी सकारात्मक सोच एवं कर्मनिष्ठा उसे भविष्य में होने वाले हानि लाभ की चिंता न करते हुए कर्म करते रहने को प्रेरित करती रहती है।
जीवट वाले व्यक्ति दूसरों के प्राणों की रक्षा हेतु अपने प्राणों का उत्सर्ग करने से भी नहीं चूकते।
साहसी लोग विरले ही होते हैं , उनका अंतर्निहित विशेष गुण उन्हें सामान्य व्यक्तियों से अलग श्रेणी में रखकर श्रेष्ठ बनाता है।
वे अपने साहसिक कार्यों से इतिहास की रचना करते हैं , जिन्हें सदैव श्रृद्धा पूर्वक स्मरण किया जाता है।

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ Rãthí
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
Vishal babu (vishu)
बेचारे नेता
बेचारे नेता
दुष्यन्त 'बाबा'
कई लोगों के दिलों से बहुत दूर हुए हैं
कई लोगों के दिलों से बहुत दूर हुए हैं
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
Neelam Sharma
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई  लिखता है
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई लिखता है
Shweta Soni
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां (संस्मरण)
मां (संस्मरण)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन के अंतिम पड़ाव पर लोककवि रामचरन गुप्त द्वारा लिखी गयीं लघुकथाएं
जीवन के अंतिम पड़ाव पर लोककवि रामचरन गुप्त द्वारा लिखी गयीं लघुकथाएं
कवि रमेशराज
मन्दिर में है प्राण प्रतिष्ठा , न्यौता सबका आने को...
मन्दिर में है प्राण प्रतिष्ठा , न्यौता सबका आने को...
Shubham Pandey (S P)
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
#हिंदी-
#हिंदी-
*Author प्रणय प्रभात*
पंचचामर छंद एवं चामर छंद (विधान सउदाहरण )
पंचचामर छंद एवं चामर छंद (विधान सउदाहरण )
Subhash Singhai
पग पग पे देने पड़ते
पग पग पे देने पड़ते
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
देश हमारा भारत प्यारा
देश हमारा भारत प्यारा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फ़कत इसी वजह से पीछे हट जाते हैं कदम
फ़कत इसी वजह से पीछे हट जाते हैं कदम
gurudeenverma198
राम-वन्दना
राम-वन्दना
विजय कुमार नामदेव
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
सेहत बढ़ी चीज़ है (तंदरुस्ती हज़ार नेमत )
shabina. Naaz
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
Mahender Singh
बड्ड  मन करैत अछि  सब सँ संवाद करू ,
बड्ड मन करैत अछि सब सँ संवाद करू ,
DrLakshman Jha Parimal
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
फागुन आया झूमकर, लगा सताने काम।
फागुन आया झूमकर, लगा सताने काम।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
Dr Manju Saini
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
यदि हर कोई आपसे खुश है,
यदि हर कोई आपसे खुश है,
नेताम आर सी
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
डी. के. निवातिया
Loading...