Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

सावन

मुक्तक
◆◆◆◆◆◆

झूले पड़े मन के बागों में

सुर बरसे सुरीली रागों में

आया सावन सखी झूम-झूम

खुशियाँ भरी हृदय-तड़ागों में !

*****
डॉ.अनिता जैन “विपुला”

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Comment · 347 Views
You may also like:
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सब्जियों पर लिखी कविता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तलाश
Shyam Sundar Subramanian
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
"हर घर तिरंगा"देश भक्ती गीत
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
गज़ल
जगदीश शर्मा सहज
अंतर्राष्ट्रीय अभियंता दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
जिसमें सुर-लय-ताल है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
“ अमिट संदेश ”
DrLakshman Jha Parimal
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
साथ जीने के लिए
surenderpal vaidya
हमारे जीवन में शिक्षा महत्व
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
*भारती* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ह्रदय की व्यथा
Nitesh Kumar Srivastava
तुम किसके लिए हो?
Shekhar Chandra Mitra
पधारो नाथ मम आलय, सु-स्वागत सङ्ग अभिनन्दन।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जलने दो
लक्ष्मी सिंह
अब कितना कुछ और सहा जाए-
डी. के. निवातिया
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
आख़िरी मुलाक़ात
N.ksahu0007@writer
बहाना क्यूँ बनाते हो ( सवाल-1 )
bhandari lokesh
'तकलीफ', नाकामयाबी सी
Seema 'Tu hai na'
✍️आत्मपरीक्षण✍️
'अशांत' शेखर
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द ना मिटा दिल से तेरी चाहतों का।
Taj Mohammad
आशाओं के दीप जलाए थे मैने
Ram Krishan Rastogi
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
जंत्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...