Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

सावन सूखा

सावन सूखा ही जा रहा है
मौसम का रुख भी अजीब
धान रोपाई करने वालों के
मन में उपज रही है खीझ
गगन निहार निहार कर थके
धरती पुत्रों के दोऊ नयन
बारिश न होने से छिन गया
है उन सबका मानसिक चैन
खेतों के चटकने से बिखर जा
रही अच्छी फसल की आस
फसल सिंचाई के खर्चों के
बोझ से अधिकांश हैं हताश
सर्वेक्षण कराके राज्य के लिए
हो उचित कृषि नीति का निर्माण
सरकार को अब करना चाहिए
किसानों की मदद का ऐलान

Language: Hindi
257 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्याही की
स्याही की
Atul "Krishn"
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
छवि अति सुंदर
छवि अति सुंदर
Buddha Prakash
"ला-ईलाज"
Dr. Kishan tandon kranti
रात निकली चांदनी संग,
रात निकली चांदनी संग,
manjula chauhan
"वादा" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जगत का हिस्सा
जगत का हिस्सा
Harish Chandra Pande
#लानत_के_साथ...
#लानत_के_साथ...
*प्रणय प्रभात*
पिया घर बरखा
पिया घर बरखा
Kanchan Khanna
*नजर बदलो नजरिए को, बदलने की जरूरत है (मुक्तक)*
*नजर बदलो नजरिए को, बदलने की जरूरत है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
यह कौनसा आया अब नया दौर है
यह कौनसा आया अब नया दौर है
gurudeenverma198
भाईचारा
भाईचारा
Mukta Rashmi
चेहरा देख के नहीं स्वभाव देख कर हमसफर बनाना चाहिए क्योंकि चे
चेहरा देख के नहीं स्वभाव देख कर हमसफर बनाना चाहिए क्योंकि चे
Ranjeet kumar patre
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
डोर रिश्तों की
डोर रिश्तों की
Dr fauzia Naseem shad
मुझे हर वक्त बस तुम्हारी ही चाहत रहती है,
मुझे हर वक्त बस तुम्हारी ही चाहत रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
विजया दशमी की हार्दिक बधाई शुभकामनाएं 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विकृतियों की गंध
विकृतियों की गंध
Kaushal Kishor Bhatt
मेंहदीं
मेंहदीं
Kumud Srivastava
दोस्ती
दोस्ती
Adha Deshwal
*हिंदी की बिंदी भी रखती है गजब का दम 💪🏻*
*हिंदी की बिंदी भी रखती है गजब का दम 💪🏻*
Radhakishan R. Mundhra
*Dr Arun Kumar shastri*
*Dr Arun Kumar shastri*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फलानी ने फलाने को फलां के साथ देखा है।
फलानी ने फलाने को फलां के साथ देखा है।
Manoj Mahato
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
कवि रमेशराज
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हमारी दोस्ती अजीब सी है
हमारी दोस्ती अजीब सी है
Keshav kishor Kumar
!! बच्चों की होली !!
!! बच्चों की होली !!
Chunnu Lal Gupta
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagawan Roy
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरा मेरा साथ
तेरा मेरा साथ
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...