Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2018 · 1 min read

सावन में शिव-भक्ति –आर के रस्तोगी

सावन का है महीना,शिवे भक्तो का हैअब जोर
बम बम भोले बाबा का,चारो तरफ मचा है शोर

हर तरफ भंडारे लगे हुये,शिव भक्तो का है शोर
शिव भक्त ऐसे नाच रहे,जैसे बन में नाचे मोर

कोई लपेटे हुये है तोलिये,कोई पहने हुए हाफ पेंट
केसरिया वस्त्र पहने हुए है,सब शिव भक्तो के सैंट

भक्त तांडव नृत्य कर रहे,कोई नहीं हो रहा है बोर
शिव को ऐसे खुश कर रहे,जैसे मोरनी को करता मोर

कोई हरिद्वार जा रहा,कोई जा रहा काशी की ओर
सारे शिव भक्त जा रहे ,गंगा गोमती जल की ओर

कोई भांग धतुरा खा रहा,कोई मदिरा पीके मचाये शोर
सब अपनी मस्ती में झूम रहे,कोई हो रहा नहीं है बोर

कोई डमरू बजा रहा,कोई लाउड स्पीकरो से मचाये शोर
चारो तरफ ख़ुशी ही ख़ुशी,मचा है शिव शंकर का शोर

रस्तोगी ने यह शिव द्र्श्य दिखाया हो के आत्म विभोर
लिखा जो मन में आया,उसके आनन्द का नही है छोर

आर के रस्तोगी

2 Likes · 1 Comment · 501 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
Ashok deep
आज वक्त हूं खराब
आज वक्त हूं खराब
साहित्य गौरव
अनंतनाग में परचम फहरा गए
अनंतनाग में परचम फहरा गए
Harminder Kaur
आग हूं... आग ही रहने दो।
आग हूं... आग ही रहने दो।
अनिल "आदर्श"
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
*आवारा या पालतू, कुत्ते सब खूॅंखार (कुंडलिया)*
*आवारा या पालतू, कुत्ते सब खूॅंखार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"प्रपोज डे"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वप्न ....
स्वप्न ....
sushil sarna
घर की रानी
घर की रानी
Kanchan Khanna
एक उम्र
एक उम्र
Rajeev Dutta
संकल्प
संकल्प
Vedha Singh
चुनावी रिश्ता
चुनावी रिश्ता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2450.पूर्णिका
2450.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बड़े ही फक्र से बनाया है
बड़े ही फक्र से बनाया है
VINOD CHAUHAN
बेटी
बेटी
Dr Archana Gupta
आप हो न
आप हो न
Dr fauzia Naseem shad
इश्क चाँद पर जाया करता है
इश्क चाँद पर जाया करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
अनिल कुमार
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
The_dk_poetry
ज्ञान~
ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
■ क़ायदे की बात...
■ क़ायदे की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
गांधीजी का भारत
गांधीजी का भारत
विजय कुमार अग्रवाल
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
देश-विक्रेता
देश-विक्रेता
Shekhar Chandra Mitra
शेयर
शेयर
rekha mohan
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...