Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2023 · 1 min read

सावन में घिर घिर घटाएं,

सावन में घिर घिर घटाएं,
बादलों से नभ भर जाएं ।
मंद मंद सुंगध बहे हवाएं,
रिमझिम मेह बरसता जाएं ।
आम जन एक स्वर गुनगुनाएं,
कोयल कूके पपीहा टेर सुनाएं ।
सलिल धरा की पीर मिटाएं,
भक्ति भाव में सब रंग जाएं ।
मन में नव नूतन भाव आएं,
कवि त्वरित कदम उठाए।
समर्थ चित्र सी रचना गाए ,
कलाकार की कला रिझाएं।
तन-मन प्रफुल्लित हो जाएं ,
बेगा बेगा सांवरिया आएं,
प्रीतम प्यारे प्रीत निभाए ।
-सीमा गुप्ता,अलवर राजस्थान

1 Like · 276 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
इस क़दर नाराज़ लहरें
इस क़दर नाराज़ लहरें
*प्रणय प्रभात*
किस किस्से का जिक्र
किस किस्से का जिक्र
Bodhisatva kastooriya
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
Rohit yadav
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"हँसी"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐसा कभी नही होगा
ऐसा कभी नही होगा
gurudeenverma198
मैं अशुद्ध बोलता हूं
मैं अशुद्ध बोलता हूं
Keshav kishor Kumar
पैमाना सत्य का होता है यारों
पैमाना सत्य का होता है यारों
प्रेमदास वसु सुरेखा
सूरज चाचा ! क्यों हो रहे हो इतना गर्म ।
सूरज चाचा ! क्यों हो रहे हो इतना गर्म ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
यदि  हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
यदि हम विवेक , धैर्य और साहस का साथ न छोडे़ं तो किसी भी विप
Raju Gajbhiye
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
Radhakishan R. Mundhra
कर दिया
कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
बेवफा, जुल्मी💔 पापा की परी, अगर तेरे किए वादे सच्चे होते....
बेवफा, जुल्मी💔 पापा की परी, अगर तेरे किए वादे सच्चे होते....
SPK Sachin Lodhi
హాస్య కవిత
హాస్య కవిత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
कभी-कभी
कभी-कभी
Sûrëkhâ
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
Subhash Singhai
कुंडलिया - रंग
कुंडलिया - रंग
sushil sarna
2679.*पूर्णिका*
2679.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उनका शौक़ हैं मोहब्बत के अल्फ़ाज़ पढ़ना !
उनका शौक़ हैं मोहब्बत के अल्फ़ाज़ पढ़ना !
शेखर सिंह
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
आर.एस. 'प्रीतम'
We just dream to  be rich
We just dream to be rich
Bhupendra Rawat
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
Loading...