Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2016 · 1 min read

सावन भादों जितना बरसे

*मुक्तक*
व्याकुल प्रिय से मिलने को मन, करता है प्रभु से मनुहार।
उर अंतस की दीवरों से, बार बार रिसता है प्यार।
मेघों के अति प्रेमामृत से, बुझी नहीं धरती की प्यास।
सावन-भादों जितना बरसे, धधक रहे उतने अंगार।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
145 Views
You may also like:
राजनेता
Aditya Prakash
मदिरा और मैं
Sidhant Sharma
कुछ दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़िन्दगी
लक्ष्मी सिंह
श्रृंगार करें मां दुल्हन सी, ऐसा अप्रतिम अपरूप लिए
Er.Navaneet R Shandily
बाल श्रम विरोधी
Utsav Kumar Aarya
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
💐दुधई💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ख़ुशियों का त्योहार मुबारक
आकाश महेशपुरी
अल्फाज़
Dr.S.P. Gautam
किस्मत ने जो कुछ दिया,करो उसे स्वीकार
Dr Archana Gupta
माँ की याद
Meenakshi Nagar
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
घूँघट की आड़
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरा दिल गया
Swami Ganganiya
तुलसी गीत
Shiva Awasthi
हमें ख़ोकर ज़रा देखो
Dr fauzia Naseem shad
हम ऐसे ज़ोहरा-जमालों में डूब जाते हैं
Anis Shah
ओ मेरे हमदर्द
gurudeenverma198
✍️अनदेखा✍️
'अशांत' शेखर
तुम्हारा मिलना
Saraswati Bajpai
चुहिया रानी
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
हिंदी दोहे- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
नारी
Dr Meenu Poonia
कलम
Sushil chauhan
Loading...