Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

सावन बीत गया

सखी बीत गया मधुमास
न जागा कोई अहसास
कि सावन रीत गया…
कि सावन बीत गया

परछाई जो साथ चली
अंगड़ाई जो साथ ढली
अब बस मीठी यादें हैं
तेरी मेरी बातें हैं।।
कि सावन बीत गया…

खोया क्या पाया हमने
बोया क्या काटा हमने
अवसानों की बस्ती है
उम्र इतनी ही सस्ती है
कि सावन बीत गया…

पहर पहर सब पहरे हैं
बुरी नज़र के चेहरे हैं
क्या जाने सावन फितरत
ऋतु कुँआरी, ये उल्फत।।
कि सावन बीत गया…

उस डोली की बात सुनो
उस भोली की रात गिनो
घायल चंदा छत पर था
झूला फंदा रुत पर था।।
कि सावन बीत गया…

बिजली, बादल अमुआ रे
बीत गये सब बबुआ रे
मन की कैसी रिमझिम है
खुल खुल जा सिमसिम है
कि सावन बीत गया…।।
सूर्यकान्त द्विवेदी

Language: Hindi
Tag: गीत
85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अपेक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रकृति और मानव
प्रकृति और मानव
Kumud Srivastava
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
माँ का घर
माँ का घर
Pratibha Pandey
Sonam Puneet Dubey
Sonam Puneet Dubey
Sonam Puneet Dubey
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
ये दिन है भारत को विश्वगुरु होने का,
शिव प्रताप लोधी
A Little Pep Talk
A Little Pep Talk
Ahtesham Ahmad
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
लक्ष्मी सिंह
ज्ञात हो
ज्ञात हो
Dr fauzia Naseem shad
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
Taj Mohammad
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
Harminder Kaur
पर्व है ऐश्वर्य के प्रिय गान का।
पर्व है ऐश्वर्य के प्रिय गान का।
surenderpal vaidya
2333.पूर्णिका
2333.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चांदनी न मानती।
चांदनी न मानती।
Kuldeep mishra (KD)
नव्य द्वीप का रहने वाला
नव्य द्वीप का रहने वाला
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बेनाम जिन्दगी थी फिर क्यूँ नाम दे दिया।
बेनाम जिन्दगी थी फिर क्यूँ नाम दे दिया।
Rajesh Tiwari
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
Sahil Ahmad
बुंदेली दोहा- पलका (पलंग)
बुंदेली दोहा- पलका (पलंग)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हमारी शाम में ज़िक्र ए बहार था ही नहीं
हमारी शाम में ज़िक्र ए बहार था ही नहीं
Kaushal Kishor Bhatt
इशारा नहीं होता
इशारा नहीं होता
Neelam Sharma
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
Jese Doosro ko khushi dene se khushiya milti hai
shabina. Naaz
संचित सब छूटा यहाँ,
संचित सब छूटा यहाँ,
sushil sarna
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर-सम्त देखा तो ख़ुद को बहुत अकेला पाया,
हर-सम्त देखा तो ख़ुद को बहुत अकेला पाया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...