Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Aug 2022 · 1 min read

सावन की शुचि तरुणाई का,सुंदर दृश्य दिखा है।

सावन की शुचि तरुणाई का , सुंदर दृश्य दिखा है।
घर-आंगन की अँगड़ाई पर, सुंदर गीत लिखा है।
यौवन दहका,बारिश चहकी,बूंद बूंद है महकी।
तन्हाई में अब तरुणी ज्यों , पावन दीपशिखा है।
डा. प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम।

Language: Hindi
1 Like · 432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
View all
You may also like:
बसंत बहार
बसंत बहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
Paras Nath Jha
बदनाम शराब
बदनाम शराब
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मैं तो महज पहचान हूँ
मैं तो महज पहचान हूँ
VINOD CHAUHAN
एक कहानी है, जो अधूरी है
एक कहानी है, जो अधूरी है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
किस किस्से का जिक्र
किस किस्से का जिक्र
Bodhisatva kastooriya
प्रत्याशी को जाँचकर , देना  अपना  वोट
प्रत्याशी को जाँचकर , देना अपना वोट
Dr Archana Gupta
दोस्ती...
दोस्ती...
Srishty Bansal
आई लो बरसात है, मौसम में आह्लाद (कुंडलिया)
आई लो बरसात है, मौसम में आह्लाद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
तुम तो साजन रात के,
तुम तो साजन रात के,
sushil sarna
"राष्टपिता महात्मा गांधी"
Pushpraj Anant
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
Shekhar Chandra Mitra
समंदर है मेरे भीतर मगर आंख से नहींबहता।।
समंदर है मेरे भीतर मगर आंख से नहींबहता।।
Ashwini sharma
चाय पीने से पिलाने से नहीं होता है
चाय पीने से पिलाने से नहीं होता है
Manoj Mahato
*शहर की जिंदगी*
*शहर की जिंदगी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
खामोशियां मेरी आवाज है,
खामोशियां मेरी आवाज है,
Stuti tiwari
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हिंदी - दिवस
हिंदी - दिवस
Ramswaroop Dinkar
कभी कहा न किसी से तिरे फ़साने को
कभी कहा न किसी से तिरे फ़साने को
Rituraj shivem verma
निगाह  मिला  के , सूरज  पे  ऐतबार  तो  कर ,
निगाह मिला के , सूरज पे ऐतबार तो कर ,
Neelofar Khan
" धेले में "
Dr. Kishan tandon kranti
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
Kailash singh
बताओ कहां से शुरू करूं,
बताओ कहां से शुरू करूं,
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
I hope one day the clouds will be gone, and the bright sun will rise.
I hope one day the clouds will be gone, and the bright sun will rise.
Manisha Manjari
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
2831. *पूर्णिका*
2831. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सच्ची लगन
सच्ची लगन
Krishna Manshi
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नमी आंखे....
नमी आंखे....
Naushaba Suriya
Loading...