Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

सावन का महीना

सावन का महीना है आया,संग संग अपने खुशियां भी लाया।
सखियों ने हर घर में जाकर,मिलजुलकर सबको झूला झुलाया।।
नंद भाभियां,सास और बहु,मां बेटी ने एक दूजे को श्रंगार कराया।
सावन के गीतों ने हर घर को,बहुत ही खुशमय और संगीतमय बनाया।।
मेहंदी लाली बिंदी कजरे और गजरे ने हर स्त्री को खूब सजाया।
लम्बी लम्बी पेंगें देकर सबने,घर घर में एक दूजे को झूला झुलाया।
सखियों ने आनंद लिया और, मिलकर सावन के गीतों को गाया।।
हरियाली हर तरफ है फैली, सावन में हरा रंग है हर दिल पर गहराया।
बादलों से जब चमकी बिजली,तो मेघों ने जमकर जल बरसाया।।
मंदिर और शिवालयों में भी,प्रतिदिन ही शिव भक्तों ने तांता लगाया।
भक्तों ने शिव की उतारी आरती,और शिवलिंग पर बेलपत्र और दूध चढ़ाया।।
हर सोमवार को सावन में स्त्रियों ने, व्रत पूजा की और प्रसाद चढ़ाया।
भूखे रह कर मन्नतें माँगी और अपनी हर मन्नत को शिव से पाया।।
कहे विजय बिजनौरी भक्तों,सावन का महीना इसलिए है आता।
हर घर में मनाई जाती हैं खुशियां और हर कोई शिव से है वरदान जो पाता।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी।

Language: Hindi
3 Likes · 208 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
कवि दीपक बवेजा
बुश का बुर्का
बुश का बुर्का
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
*तुलसीदास (कुंडलिया)*
*तुलसीदास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सच, सच-सच बताना
सच, सच-सच बताना
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
💐अज्ञात के प्रति-151💐
💐अज्ञात के प्रति-151💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज का श्रवण कुमार
आज का श्रवण कुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अनकही दोस्ती
अनकही दोस्ती
राजेश बन्छोर
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
Anand Kumar
वक्त
वक्त
Ramswaroop Dinkar
मेरी धुन में, तेरी याद,
मेरी धुन में, तेरी याद,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वीर तुम बढ़े चलो!
वीर तुम बढ़े चलो!
Divya Mishra
दिन ढले तो ढले
दिन ढले तो ढले
Dr.Pratibha Prakash
अगर सीता स्वर्ण हिरण चाहेंगी....
अगर सीता स्वर्ण हिरण चाहेंगी....
Vishal babu (vishu)
गुरुर ज्यादा करोगे
गुरुर ज्यादा करोगे
Harminder Kaur
दिल की पुकार है _
दिल की पुकार है _
Rajesh vyas
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
Ranjeet kumar patre
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
मुझे ना छेड़ अभी गर्दिशे -ज़माने तू
मुझे ना छेड़ अभी गर्दिशे -ज़माने तू
shabina. Naaz
Who is whose best friend
Who is whose best friend
Ankita Patel
जानता हूं
जानता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जब बहुत कुछ होता है कहने को
जब बहुत कुछ होता है कहने को
पूर्वार्थ
एक सत्य
एक सत्य
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
2538.पूर्णिका
2538.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ समझदार टाइप के नासमझ।
■ समझदार टाइप के नासमझ।
*Author प्रणय प्रभात*
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
बिन बोले ही  प्यार में,
बिन बोले ही प्यार में,
sushil sarna
Loading...