Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

सावन आया

सावन आया भोले बाबा के साथ आया है।
जीवन और स्वस्थ्य शरीर को लुभाया है।

सावन की फूहारों में मस्ती का मौसम छाया है
कवांरियों के रंग घुंघरूओं ने छम छम गाया हैं

सावन आया सावन आया जन जन‌ को भाया हैं
मस्त मस्त उमंग के साथ दिल में चाहत आयी हैं

सावन‌ की घटाओं ने झूम झूम मौसम बनाया है
बम बम भोले के साथ साथ भक्ति से गाया है

शाम सवेरे सावन‌ में शिव शम्भू मन भावों छाया है
हर हर महादेव हम सभी भक्तों ने प्रेम से गाया है

तेरा सावन‌ मेरा मन भावन संग साथ निभाया हैं
गौरा संग महादेव ने रास भक्ति में बताया हैं

आओ सावन‌ में झूला झूले मल्हार मन भाया है
सावन आया रे सावन‌ आया रे मस्ती लाया है।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भिनसार हो गया
भिनसार हो गया
Satish Srijan
धनतेरस के अवसर पर ,
धनतेरस के अवसर पर ,
Yogendra Chaturwedi
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प
Rj Anand Prajapati
इजोत
इजोत
श्रीहर्ष आचार्य
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
माँ आजा ना - आजा ना आंगन मेरी
Basant Bhagawan Roy
मेरा भूत
मेरा भूत
हिमांशु Kulshrestha
मै थक गया हु
मै थक गया हु
भरत कुमार सोलंकी
"उई मां"
*Author प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
Godambari Negi
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
Dheeru bhai berang
🍁🌹🖤🌹🍁
🍁🌹🖤🌹🍁
शेखर सिंह
तू ज़रा धीरे आना
तू ज़रा धीरे आना
मनोज कुमार
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
Fragrance of memories
Fragrance of memories
Bidyadhar Mantry
एक सच और सोच
एक सच और सोच
Neeraj Agarwal
पल परिवर्तन
पल परिवर्तन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
"फर्क बहुत गहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
विष बो रहे समाज में सरेआम
विष बो रहे समाज में सरेआम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अब किसपे श्रृंगार करूँ
अब किसपे श्रृंगार करूँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
हमारी शाम में ज़िक्र ए बहार था ही नहीं
हमारी शाम में ज़िक्र ए बहार था ही नहीं
Kaushal Kishor Bhatt
रजनी छंद (विधान सउदाहरण)
रजनी छंद (विधान सउदाहरण)
Subhash Singhai
मकानों में रख लिया
मकानों में रख लिया
abhishek rajak
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
Shriyansh Gupta
तेरा बना दिया है मुझे
तेरा बना दिया है मुझे
gurudeenverma198
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
*होता शिक्षक प्राथमिक, विद्यालय का श्रेष्ठ (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
मांँ
मांँ
Diwakar Mahto
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
Loading...