Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2023 · 1 min read

साल भर पहले

साल भर पहले
जिसको बड़े उल्लास से लेकर आये थे
और खूंटी पर टांग दिया था
हर रोज दिन देखें, तारीख़े देखी, महीने देखे
छुट्टियां देखीं उसमे त्यौहार भी देखे
किसी ने दिन गिने शादी के लिए
किसी ने बच्चे के आने की तारीख़ पर निशान लगाया
सब ने उसे बहुत उपयोग में लाया
अब वो बेकार लगने लगा न
अब उसे रद्दी में बेच देंगे
या यूं ही समेट कर कहीं रख देंगे
नए को लायेंगे उसे भूल जायेंगे
शायद यही जिंदगी है
इंसान नयापन चाहता है
मरे हुए पौधों को पानी देने के बजाय
नये फूल उगाता है
Ruby kumari

1 Like · 107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू है लबड़ा / MUSAFIR BAITHA
तू है लबड़ा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
AJAY AMITABH SUMAN
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Bodhisatva kastooriya
हार जाते हैं
हार जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ लेना करतार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ लेना करतार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ऐतिहासिक भूल
ऐतिहासिक भूल
Shekhar Chandra Mitra
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
VINOD CHAUHAN
💐 Prodigy Love-29💐
💐 Prodigy Love-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यार मेरा तू ही तो है।
प्यार मेरा तू ही तो है।
Buddha Prakash
गर्जन में है क्या धरा ,गर्जन करना व्यर्थ (कुंडलिया)
गर्जन में है क्या धरा ,गर्जन करना व्यर्थ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
'मौन का सन्देश'
'मौन का सन्देश'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गुरुकुल भारत
गुरुकुल भारत
Sanjay ' शून्य'
मजदूर
मजदूर
umesh mehra
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
Amit Pathak
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
करी लाडू
करी लाडू
Ranjeet kumar patre
भारत का चाँद…
भारत का चाँद…
Anand Kumar
आंखों से अश्क बह चले
आंखों से अश्क बह चले
Shivkumar Bilagrami
ड्रीम इलेवन
ड्रीम इलेवन
आकाश महेशपुरी
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
Deepak Baweja
हाँ ये सच है
हाँ ये सच है
Dr. Man Mohan Krishna
दोस्त
दोस्त
Neeraj Agarwal
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
# महुआ के फूल ......
# महुआ के फूल ......
Chinta netam " मन "
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
जग जननी
जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पिता
पिता
Swami Ganganiya
कृषक
कृषक
Shaily
Loading...