Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2024 · 1 min read

सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग

सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
छूट न जाए हाथ से, पकड़ी हुई पतंग
पकड़ी हुई पतंग, डोर भी कितनी कच्ची
बहुत सोच में खोट, न इनकी बातें सच्ची
कहे ‘अर्चना’ बात, गजब के ये हरकारे
अपने – अपने दाँव , खेलते नेता सारे

डॉ अर्चना गुप्ता
12.04.2024

1 Like · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
*Author प्रणय प्रभात*
हिंदू धर्म की यात्रा
हिंदू धर्म की यात्रा
Shekhar Chandra Mitra
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
Deepak Baweja
सादगी मुझमें हैं,,,,
सादगी मुझमें हैं,,,,
पूर्वार्थ
अधूरे ख्वाब
अधूरे ख्वाब
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
चाहता हे उसे सारा जहान
चाहता हे उसे सारा जहान
Swami Ganganiya
जुदा होते हैं लोग ऐसे भी
जुदा होते हैं लोग ऐसे भी
Dr fauzia Naseem shad
23/180.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/180.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुरु कृपा
गुरु कृपा
Satish Srijan
"बचपन"
Dr. Kishan tandon kranti
दोयम दर्जे के लोग
दोयम दर्जे के लोग
Sanjay ' शून्य'
मंजिल की अब दूरी नही
मंजिल की अब दूरी नही
देवराज यादव
नव वर्ष पर सबने लिखा
नव वर्ष पर सबने लिखा
Harminder Kaur
गुहार
गुहार
Sonam Puneet Dubey
ज्ञान का अर्थ
ज्ञान का अर्थ
ओंकार मिश्र
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
है कौन वो
है कौन वो
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फितरत
फितरत
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
ପରିଚୟ ଦାତା
ପରିଚୟ ଦାତା
Bidyadhar Mantry
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सफलता और सुख  का मापदण्ड स्वयं निर्धारित करनांआवश्यक है वरना
सफलता और सुख का मापदण्ड स्वयं निर्धारित करनांआवश्यक है वरना
Leena Anand
मौके पर धोखे मिल जाते ।
मौके पर धोखे मिल जाते ।
Rajesh vyas
बेफिक्री की उम्र बचपन
बेफिक्री की उम्र बचपन
Dr Parveen Thakur
!! वो बचपन !!
!! वो बचपन !!
Akash Yadav
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
प्रणय
प्रणय
Neelam Sharma
मुस्कानों की बागानों में
मुस्कानों की बागानों में
sushil sarna
2122/2122/212
2122/2122/212
सत्य कुमार प्रेमी
फांसी का फंदा भी कम ना था,
फांसी का फंदा भी कम ना था,
Rahul Singh
Loading...