Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ाकर चले गए…

सारे जग को मानवता का,
पाठ पढ़ाकर चले गये,
देश प्रेम सच्चे अर्थों में,
सबको सिखाकर चले गये…

कैसे जीता जाता है दिल,
बिना किसी आडम्बर के,
विजय चूमती कदम सदां ही,
बिना पीर पैगम्बर के,

बार-बार असफल रहकर भी,
कैसे सफल हुआ जाता है,
सपनों को साकार रूप में,
परिवर्तित कैसे किया जाता है,

कैसे हो सबका विकास,
सिद्धान्त बनाकर कर चले गए,
सारे जग को मानवता का,
पाठ पढ़ाकर चले गए…

कभी बैठना नहीं है थककर,
जबतक मंजिल तय ना हो,
देश का मान बढ़ाना ही है
जबतक श्वांस बंद ना हो,

चाटुकारिता नहीं है करनी,
कर्महीन भी ना बनना,
सच्चाई की राह पे चलके,
बेईमानी को विदा करना,

विश्वरूप भारत को विश्व में
विश्वस्त बना कर चले गए
सारे जग को मानवता का,
पाठ पढ़ाकर चले गए…

पढ़ लिख कर विज्ञानी बनना,
पर नैतिकता नहीं छोड़ना,
मात-पिता-गुरु कृपा प्राप्त कर,
लक्ष्य प्राप्ति हेतु निकलना,

दंभ, द्वेष पाखण्ड छोड़कर,
बुद्ध रूप सा सात्विक बनना,
पर जो तोड़े नियम शान्ति का,
ताल ठोक छाती पर चढ़ना,

कैसे हों विफल, षणयंत्र शत्रु के,
राज बताकर चले गए
सारे जग को मानवता का,
पाठ पढ़ाकर चले गए…

सीखो, धर्म धुरंधर सीखो,
मानव धर्म निभाते कैसे,
सीखो ऊंच-नीच वालो भी,
प्रेम परस्पर पलता कैसे,

बन्द करो सब ढोंग ढपारे,
अंधभक्ति भी बंद करो,
सीखो कुछ “कलाम साहब” से,
और समता की बात करो,

वो अनेकता में भी एकता-
करना, सिखाकर चले गए
सारे जग को मानवता का
पाठ पढ़ाकर चले गए…

✍️ सुनील सुमन

Language: Hindi
2 Likes · 324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
नूरफातिमा खातून नूरी
श्री श्याम भजन
श्री श्याम भजन
Khaimsingh Saini
2524.पूर्णिका
2524.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
खानदानी चाहत में राहत🌷
खानदानी चाहत में राहत🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"क्या देश आजाद है?"
Ekta chitrangini
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
सब विश्वास खोखले निकले सभी आस्थाएं झूठीं
Ravi Ghayal
रात बदरिया...
रात बदरिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*नमन : वीर हनुमन्थप्पा तथा अन्य (गीत)*
*नमन : वीर हनुमन्थप्पा तथा अन्य (गीत)*
Ravi Prakash
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
बाबा साहब अंबेडकर का अधूरा न्याय
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
Anil chobisa
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
sushil sarna
*प्रेम भेजा  फ्राई है*
*प्रेम भेजा फ्राई है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
■ अब भी समय है।।
■ अब भी समय है।।
*Author प्रणय प्रभात*
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
Ranjeet kumar patre
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
Vedha Singh
"आदि नाम"
Dr. Kishan tandon kranti
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
AVINASH (Avi...) MEHRA
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
Yogendra Chaturwedi
उम्मीद
उम्मीद
Paras Nath Jha
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
Shweta Soni
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
ruby kumari
सफ़र जिंदगी का (कविता)
सफ़र जिंदगी का (कविता)
Indu Singh
छप्पन भोग
छप्पन भोग
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
Manisha Manjari
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
विनोद सिल्ला
Loading...