Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

सारे गुनाहगार खुले घूम रहे हैं

कांटे चमन में हैं हमें इंकार नहीं है |
फूलों के हाथों में भी तो तलवार नहीं है ||
है प्यास अभी वक्त पर बरसेगी घटाएं |
मौसम को आदमी से सरोकार नहीं है||
सारे गुनाहगार खुले घूम रहे हैं|
जो शख्स कैद में हैं गुनाहगार नहीं है||

Language: Hindi
1 Like · 132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*
*"ओ पथिक"*
Shashi kala vyas
विनती
विनती
कविता झा ‘गीत’
"Looking up at the stars, I know quite well
पूर्वार्थ
प्रयास
प्रयास
Dr fauzia Naseem shad
तारीफ किसकी करूं
तारीफ किसकी करूं
कवि दीपक बवेजा
जालोर के वीर वीरमदेव
जालोर के वीर वीरमदेव
Shankar N aanjna
गांधी जी के नाम पर
गांधी जी के नाम पर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बहुत बार
बहुत बार
Shweta Soni
मत गमों से डर तू इनका साथ कर।
मत गमों से डर तू इनका साथ कर।
सत्य कुमार प्रेमी
वफा से वफादारो को पहचानो
वफा से वफादारो को पहचानो
goutam shaw
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
नेताम आर सी
"सदियों का सन्ताप"
Dr. Kishan tandon kranti
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Bodhisatva kastooriya
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
अजहर अली (An Explorer of Life)
श्री रमेश जैन द्वारा
श्री रमेश जैन द्वारा "कहते रवि कविराय" कुंडलिया संग्रह की सराहना : मेरा सौभाग्य
Ravi Prakash
सफर कितना है लंबा
सफर कितना है लंबा
Atul "Krishn"
నమో నమో నారసింహ
నమో నమో నారసింహ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
15)”शिक्षक”
15)”शिक्षक”
Sapna Arora
Don't Give Up..
Don't Give Up..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
माना जीवन लघु बहुत,
माना जीवन लघु बहुत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
1 *मेरे दिल की जुबां, मेरी कलम से*
1 *मेरे दिल की जुबां, मेरी कलम से*
Dr Shweta sood
बुढ़ापा
बुढ़ापा
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
शेखर सिंह
💐प्रेम कौतुक-533💐
💐प्रेम कौतुक-533💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🙅ताज़ा सुझाव🙅
🙅ताज़ा सुझाव🙅
*Author प्रणय प्रभात*
2443.पूर्णिका
2443.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
चरचा गरम बा
चरचा गरम बा
Shekhar Chandra Mitra
पर्यावरण और प्रकृति
पर्यावरण और प्रकृति
Dhriti Mishra
Loading...