Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2021 · 1 min read

सारथी

खुद ही अर्जुन कृष्ण हूँ,है जीवन संग्राम ।
बनकर अपना सारथी,लड़ूँ युद्ध अविराम।। १

स्वयं समय रथ हाँकता,धैर्यवान रथवान।
शूरवीर होता वही, पाता है सम्मान।। २

जीवन रथ का सारथी,चला प्रलय की राह।
सह जाऊँ हर वेदना, बस मंजिल की चाह।। ३

अगर मित्र हो कृष्ण-सा,देता पग-पग प्रीत ।
बन जाता है सारथी,तय है निश्चित जीत।। ४

एक मित्र हो कृष्ण-सा,देता सच्चा ज्ञान।
जीवन रथ को हाँकता, बन जाता रथवान ।। ५

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
ruby kumari
हम भारत के लोग उड़ाते
हम भारत के लोग उड़ाते
Satish Srijan
अपनी अपनी सोच
अपनी अपनी सोच
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दोहा बिषय- दिशा
दोहा बिषय- दिशा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*सुंदर भरत चरित्र (कुंडलिया)*
*सुंदर भरत चरित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
3550.💐 *पूर्णिका* 💐
3550.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
एक एक ईट जोड़कर मजदूर घर बनाता है
एक एक ईट जोड़कर मजदूर घर बनाता है
प्रेमदास वसु सुरेखा
-- तभी तक याद करते हैं --
-- तभी तक याद करते हैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
48...Ramal musamman saalim ::
48...Ramal musamman saalim ::
sushil yadav
..
..
*प्रणय प्रभात*
जरूरत पड़ने पर बहाना और बुरे वक्त में ताना,
जरूरत पड़ने पर बहाना और बुरे वक्त में ताना,
Ranjeet kumar patre
जो हैं आज अपनें..
जो हैं आज अपनें..
Srishty Bansal
भैया  के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
भैया के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
यह शहर पत्थर दिलों का
यह शहर पत्थर दिलों का
VINOD CHAUHAN
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
उनके ही नाम
उनके ही नाम
Bodhisatva kastooriya
अगनित अभिलाषा
अगनित अभिलाषा
Dr. Meenakshi Sharma
हे मन
हे मन
goutam shaw
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
Amit Pathak
सूरज नमी निचोड़े / (नवगीत)
सूरज नमी निचोड़े / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
यहां कुछ भी स्थाई नहीं है
शेखर सिंह
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
Raju Gajbhiye
रिश्तों का सच
रिश्तों का सच
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...