Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

साया ही सच्चा

रहगुजर तो राह ही मे गुज़र गए ..
एक साया भर ही तो साथ था
ज़रा हुआ और घना अंधेरा
साया भी मेरा साथ छोड़ गया

अब फिर उस सहर का है इंतज़ार
जिंदगी जब फिर से होगी रोशन
कोई और हो ना हो मेरा
मेरा ही ग़ुम हुआ साया
चुपचाप फिर मेरे साथ होगा

यही सच है – जब भी हुआ अंधेरा
तो छुप के उस अँधेरे में भी
मेरा साया ही साथ खड़ा रहा

जिंदगी जब फिर से होगी रोशन
भले ही लोग नहीं होंगे
ना ही कोई कारवाँ होगा
बस साथ मेरा साया
एक मज़बूत जमीं और
एक साफ़ नीला आसमां होगा

Language: Hindi
80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
रंगमंच
रंगमंच
लक्ष्मी सिंह
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
मेरे अंशुल तुझ बिन.....
Santosh Soni
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
VINOD CHAUHAN
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
बॉलीवुड का क्रैज़ी कमबैक रहा है यह साल - आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मै तो हूं मद मस्त मौला
मै तो हूं मद मस्त मौला
नेताम आर सी
माया
माया
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल(चलो हम करें फिर मुहब्ब्त की बातें)
ग़ज़ल(चलो हम करें फिर मुहब्ब्त की बातें)
डॉक्टर रागिनी
मन को समझाने
मन को समझाने
sushil sarna
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Neeraj Agarwal
हमको
हमको
Divya Mishra
रमेशराज की कहमुकरियां
रमेशराज की कहमुकरियां
कवि रमेशराज
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
Ansh
बेहतर है गुमनाम रहूं,
बेहतर है गुमनाम रहूं,
Amit Pathak
"सूत्र-सिद्धान्त"
Dr. Kishan tandon kranti
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
*Author प्रणय प्रभात*
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
क्या वायदे क्या इरादे ,
क्या वायदे क्या इरादे ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मै अकेला न था राह था साथ मे
मै अकेला न था राह था साथ मे
Vindhya Prakash Mishra
विकास की जिस सीढ़ी पर
विकास की जिस सीढ़ी पर
Bhupendra Rawat
*My Decor*
*My Decor*
Poonam Matia
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
पूर्वार्थ
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
DrLakshman Jha Parimal
निशाना
निशाना
अखिलेश 'अखिल'
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
Lekh Raj Chauhan
मुस्कुराओ तो सही
मुस्कुराओ तो सही
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
तुमको खोकर
तुमको खोकर
Dr fauzia Naseem shad
3063.*पूर्णिका*
3063.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...