Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2023 · 1 min read

सामाजिक न्याय के प्रश्न

कौन है ब्राह्मण
कौन है शूद्र
तुम्हें बताया किसने?
छुआ-छूत का
ऊंच-नीच का
जाल फैलाया किसने?
शिक्षा,सम्पत्ति और
सत्ता से
पूरी तरह वंचित करके!
शूद्रों और स्त्रियों को
सदियों के लिए
दास बनाया किसने?
#सामाजिक_न्याय #CasteCensus
#जितनी_आबादी_उतना_हक #OBC
#जातीय_जनगणना #SocialJustice
#शेखर_चंद्र_मित्रा #हिस्सेदारी #पिछड़ा

Language: Hindi
361 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सुन्दरता।
सुन्दरता।
Anil Mishra Prahari
*** कभी-कभी.....!!! ***
*** कभी-कभी.....!!! ***
VEDANTA PATEL
130 किताबें महिलाओं के नाम
130 किताबें महिलाओं के नाम
अरशद रसूल बदायूंनी
आसमाँ  इतना भी दूर नहीं -
आसमाँ इतना भी दूर नहीं -
Atul "Krishn"
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
सफाई कामगारों के हक और अधिकारों की दास्तां को बयां करती हुई कविता 'आखिर कब तक'
Dr. Narendra Valmiki
दुख वो नहीं होता,
दुख वो नहीं होता,
Vishal babu (vishu)
"दोस्ती का मतलब"
Radhakishan R. Mundhra
ఓ యువత మేలుకో..
ఓ యువత మేలుకో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
ईश्वर किसी को भीषण गर्मी में
ईश्वर किसी को भीषण गर्मी में
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्दू मुस्लिम करता फिर रहा,अब तू क्यों गलियारे में।
हिन्दू मुस्लिम करता फिर रहा,अब तू क्यों गलियारे में।
शायर देव मेहरानियां
बो रही हूं खाब
बो रही हूं खाब
Surinder blackpen
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ख्याल नहीं थे उम्दा हमारे, इसलिए हालत ऐसी हुई
ख्याल नहीं थे उम्दा हमारे, इसलिए हालत ऐसी हुई
gurudeenverma198
ख़राब आदमी
ख़राब आदमी
Dr MusafiR BaithA
खरा इंसान
खरा इंसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
Phool gufran
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
3067.*पूर्णिका*
3067.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फिसल गए खिलौने
फिसल गए खिलौने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नाबालिक बच्चा पेट के लिए काम करे
नाबालिक बच्चा पेट के लिए काम करे
शेखर सिंह
प्यार करने के लिए हो एक छोटी जिंदगी।
प्यार करने के लिए हो एक छोटी जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
दोहे
दोहे
दुष्यन्त 'बाबा'
आईने में ...
आईने में ...
Manju Singh
Be with someone who motivates you to do better in life becau
Be with someone who motivates you to do better in life becau
पूर्वार्थ
फितरत
फितरत
umesh mehra
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
रिसते हुए घाव
रिसते हुए घाव
Shekhar Chandra Mitra
Loading...