Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2024 · 1 min read

साथ चली किसके भला,

साथ चली किसके भला,
अर्थ दम्भ की शान।
खाक चिता पर हो गई,
इंसानी पहचान ।।

सुशील सरना 10-3-24

1 Like · 66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल की बातें
दिल की बातें
Ritu Asooja
नरसिंह अवतार
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कैसै कह दूं
कैसै कह दूं
Dr fauzia Naseem shad
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
Ranjeet kumar patre
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सफर पर है आज का दिन
सफर पर है आज का दिन
Sonit Parjapati
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
आतंकवाद को जड़ से मिटा दो
gurudeenverma198
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ओसमणी साहू 'ओश'
सुनों....
सुनों....
Aarti sirsat
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बिना चले गन्तव्य को,
बिना चले गन्तव्य को,
sushil sarna
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
तितली
तितली
Manu Vashistha
*सेना वीर स्वाभिमानी (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद)*
*सेना वीर स्वाभिमानी (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद)*
Ravi Prakash
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
Shweta Soni
तुमसे ही से दिन निकलता है मेरा,
तुमसे ही से दिन निकलता है मेरा,
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मेरे फितरत में ही नहीं है
मेरे फितरत में ही नहीं है
नेताम आर सी
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
महेश चन्द्र त्रिपाठी
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
Taj Mohammad
फिदरत
फिदरत
Swami Ganganiya
खुली किताब सी लगती हो
खुली किताब सी लगती हो
Jitendra Chhonkar
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
Sanjay ' शून्य'
दस लक्षण पर्व
दस लक्षण पर्व
Seema gupta,Alwar
"काला पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...