Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2023 · 1 min read

“साजन लगा ना गुलाल”

“साजन लगा ना गुलाल”
गोरे गालों पे साजन लगा ना गुलाल।
मुझसे पूछेंगी सखियाँ हुआ क्यों ये हाल।

तेरा हँसना हँसाना सताता मुझे।
छोड़कर दूर जाना रुलाता मुझे।
साँसें मेरी रुके आग तन में लगे।
ख्वाब सोए थे वे फिर मचलने लगे।
अब तो भँवरे भी…२ मुझसे करें ये सवाल।…1

इस लरजती हवा से महकता चमन।
क्यों ये मन को लगी यार तेरी लगन।
आकर मुझको बता दे जरा तू सनम।
तुम पे कुर्बान मेरे हजारों जनम।
कोई पूछे ना….२ कर कोई ऐसा कमाल।…2

कैसे कह दूँ हुआ क्या मेरे साथ में।
मेरा दिल था मेरी जान के हाथ में।
दूर रह ना सकूँगी तुम्हे छोड़कर।
तुम न जाना कभी दूर मुँह मोड़कर।
कैसे मस्ती में….२ झूमें मचाएँ धमाल।….3

अब तो छोड़ो हमारी कलाई पिया।
मैने तन मन ये अपना तुम्हे दे दिया।
मेरी आँखों में सूरत बसी यार की।
छोड़ जिद को कसम है तुम्हे प्यार की।
लाज आती है…. २ कैसे दिखाऊँगी गाल।…4

सबको होली मुबारक नए साल की।
‘रुद्र’ देता बधाई नए चाल की।
आओ मिलकर मनायें सभी प्यार से।
खेलें होली रंगीली सदा यार से।
खेल मस्ती से…. २ खेलें करें ना मलाल।…5
गोरे गालों पे साजन लगा ना गुलाल।
मुझसे पूछेंगी सखियाँ हुआ क्यों ये हाल।
द्वारा:-🖋️🖋️
लक्ष्मीकान्त शर्मा ‘रुद्र’
(स्व-रचित / मौलिक)
देवली, विराटनगर जयपुर
दिनाँक : 05/03/2023

Language: Hindi
Tag: गीत
291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
का कहीं रहन अपना सास के
का कहीं रहन अपना सास के
नूरफातिमा खातून नूरी
सुनहरे सपने
सुनहरे सपने
Shekhar Chandra Mitra
*प्यार या एहसान*
*प्यार या एहसान*
Harminder Kaur
तू मिला जो मुझे इक हंसी मिल गई
तू मिला जो मुझे इक हंसी मिल गई
कृष्णकांत गुर्जर
International Hindi Day
International Hindi Day
Tushar Jagawat
बेवजह की नजदीकियों से पहले बहुत दूर हो जाना चाहिए,
बेवजह की नजदीकियों से पहले बहुत दूर हो जाना चाहिए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-170
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-170
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
घड़ी का इंतजार है
घड़ी का इंतजार है
Surinder blackpen
3128.*पूर्णिका*
3128.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*प्रणय प्रभात*
"शुक्रिया अदा कर देते हैं लोग"
Ajit Kumar "Karn"
भुलाना ग़लतियाँ सबकी सबक पर याद रख लेना
भुलाना ग़लतियाँ सबकी सबक पर याद रख लेना
आर.एस. 'प्रीतम'
वो लिखती है मुझ पर शेरों- शायरियाँ
वो लिखती है मुझ पर शेरों- शायरियाँ
Madhuyanka Raj
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
रास्तों पर चलते-चलते
रास्तों पर चलते-चलते
VINOD CHAUHAN
तेरी आंखों में है जादू , तेरी बातों में इक नशा है।
तेरी आंखों में है जादू , तेरी बातों में इक नशा है।
B S MAURYA
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
Neeraj Agarwal
धीरे धीरे उन यादों को,
धीरे धीरे उन यादों को,
Vivek Pandey
*हर किसी के हाथ में अब आंच है*
*हर किसी के हाथ में अब आंच है*
sudhir kumar
तितली
तितली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
अनिल कुमार
जिसका इन्तजार हो उसका दीदार हो जाए,
जिसका इन्तजार हो उसका दीदार हो जाए,
डी. के. निवातिया
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
Manisha Manjari
"कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
*मिलता जीवन में वही, जैसा भाग्य-प्रधान (कुंडलिया)*
*मिलता जीवन में वही, जैसा भाग्य-प्रधान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भटक ना जाना मेरे दोस्त
भटक ना जाना मेरे दोस्त
Mangilal 713
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
कुछ लोग होते है जो रिश्तों को महज़ इक औपचारिकता भर मानते है
पूर्वार्थ
दृष्टा
दृष्टा
Shashi Mahajan
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
Loading...