Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

*** सागर की लहरें….! ***

“” न जाने वो कौन सी बात है ,
जो सागर की लहरें…
मुझसे कुछ कह जाती है…!
धीरे-धीरे कुछ पल में…
मेरे पांव तल से रेत सरक जाती है…!
कभी धूप और कभी छांव की परिदृश्य…
मेरे मन में, सहसा अनगिनत सवाल कर जाती है…!
कुछ सरारती हवाओं के झोंके…
मेरे मन को कुछ झुंझला जाती है…!
दूर क्षितिज पर नजर डाले,
मन की कुछ आश मेरे…
परिणामी भ्रम में, यूं ही उलझ जाती है…!
लालिमा लिए कुछ किरणें, सूरज की…
कुछ अनसुलझे सवालों को सुलझाने,
पास अपने बुलाते हैं…!
यूं ही ये सिलसिला, न जाने…
कितनी बार पुनरावृत्त हो जाती है…!
न जाने वो कौन सी बात है…
जो सागर की लहरें,
मुझसे कुछ कह जाती है…!!

*************∆∆∆************

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VEDANTA PATEL
View all
You may also like:
वार
वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जब किसी बुजुर्ग इंसान को करीब से देख महसूस करो तो पता चलता ह
जब किसी बुजुर्ग इंसान को करीब से देख महसूस करो तो पता चलता ह
Shashi kala vyas
थक गया दिल
थक गया दिल
Dr fauzia Naseem shad
"जमाने के हिसाब से"
Dr. Kishan tandon kranti
अंतहीन प्रश्न
अंतहीन प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
बता ये दर्द
बता ये दर्द
विजय कुमार नामदेव
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagawan Roy
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मां भारती से कल्याण
मां भारती से कल्याण
Sandeep Pande
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
Ajay Kumar Vimal
Many more candles to blow in life. Happy birthday day and ma
Many more candles to blow in life. Happy birthday day and ma
DrLakshman Jha Parimal
बुंदेली दोहा - सुड़ी
बुंदेली दोहा - सुड़ी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
Suryakant Dwivedi
शासक की कमजोरियों का आकलन
शासक की कमजोरियों का आकलन
Mahender Singh
👌
👌
*Author प्रणय प्रभात*
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आधार छन्द-
आधार छन्द- "सीता" (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गालगागा गालगागा गालगागा गालगा (15 वर्ण) पिंगल सूत्र- र त म य र
Neelam Sharma
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
करवा चौथ
करवा चौथ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मन की किताब
मन की किताब
Neeraj Agarwal
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
Abhishek prabal
समाज और सोच
समाज और सोच
Adha Deshwal
Whenever My Heart finds Solitude
Whenever My Heart finds Solitude
कुमार
2663.*पूर्णिका*
2663.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बिसुणी (घर)
बिसुणी (घर)
Radhakishan R. Mundhra
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
नारी को सदा राखिए संग
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
*फूलों पर भौंरे दिखे, करते हैं गुंजार* ( कुंडलिया )
*फूलों पर भौंरे दिखे, करते हैं गुंजार* ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
कवि दीपक बवेजा
Loading...