Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2019 · 1 min read

साख तो अपनी तुम बचालो

किसी कार्य को असंभव कहके,खुदी को गुलाम क्यों करते हो।
शत्रु से डटके मुक़ाबला करो,हारकर सलाम क्यों करते हो।।
मौत अरे आनी है एकदिन,साख तो अपनी तुम बचालो।
गीदड़-से डरके भागते हो,खुली यूँ लगाम क्यों करते हो।।

आलोचकों पर गुस्सा मत कर,कमियाँअपनी तुम दूर करो।
होंगी तारीफ़ें जमके यहाँ,खुद को पहले मशहूर करो।।
चट्टानों को हटाए झरना,काँटों में खिलता वो गुलाब।
तूफ़ानों से डरके न बैठों,कायरता दूर ज़रूर करो।।

–आर.एस.प्रीतम
दिनांक:28जुलाई,2019

Language: Hindi
1 Like · 324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आर.एस. 'प्रीतम'
View all
You may also like:
आग़ाज़
आग़ाज़
Shyam Sundar Subramanian
निष्ठुर संवेदना
निष्ठुर संवेदना
Alok Saxena
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Ram Krishan Rastogi
मां, तेरी कृपा का आकांक्षी।
मां, तेरी कृपा का आकांक्षी।
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
माँ का जग उपहार अनोखा
माँ का जग उपहार अनोखा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
// तुम सदा खुश रहो //
// तुम सदा खुश रहो //
Shivkumar barman
सन्मति औ विवेक का कोष
सन्मति औ विवेक का कोष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वफा करो हमसे,
वफा करो हमसे,
Dr. Man Mohan Krishna
*क्या देखते हो *
*क्या देखते हो *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
कवि दीपक बवेजा
"इन्तेहा" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
भूखे हैं कुछ लोग !
भूखे हैं कुछ लोग !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
न जागने की जिद भी अच्छी है हुजूर, मोल आखिर कौन लेगा राह की द
Sanjay ' शून्य'
3332.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3332.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जो रोज समय पर उगता है
जो रोज समय पर उगता है
Shweta Soni
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत,
Jitendra Chhonkar
గురువు కు వందనం.
గురువు కు వందనం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
जुग जुग बाढ़य यें हवात
जुग जुग बाढ़य यें हवात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
ना ढूंढ मोहब्बत बाजारो मे,
शेखर सिंह
कोई भी
कोई भी
Dr fauzia Naseem shad
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
Jyoti Khari
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Who am I?
Who am I?
R. H. SRIDEVI
आज बुजुर्ग चुप हैं
आज बुजुर्ग चुप हैं
VINOD CHAUHAN
गजलकार रघुनंदन किशोर
गजलकार रघुनंदन किशोर "शौक" साहब का स्मरण
Ravi Prakash
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
दोहे- अनुराग
दोहे- अनुराग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#हृदय_दिवस_पर
#हृदय_दिवस_पर
*प्रणय प्रभात*
Loading...