Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2022 · 1 min read

सांसें थम सी गई है, जब से तु म हो ।

वो पास है पर लकीरें ,
आधी आधी लगती है ।

स् रत सोई और सीरत ,
जोगी जागी लगती है ।

उसके चेहरे को देखूं ,
तो इं कार दिखता है ।

निगाहों में झाकू तो ,
राज़ी राज़ी लगती है ।

जो उसे देख लूं तो ,
सां से थम सी जाती है ।

छोरी झुमके पायल पहाड़ ,
नशीली लागे है ।

छोरा बिन पिए ,
मधोश लागे है !!!

Language: Hindi
1 Like · 362 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
কুয়াশার কাছে শিখেছি
কুয়াশার কাছে শিখেছি
Sakhawat Jisan
मुझे तारे पसंद हैं
मुझे तारे पसंद हैं
ruby kumari
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
देते ऑक्सीजन हमें, बरगद पीपल नीम (कुंडलिया)
देते ऑक्सीजन हमें, बरगद पीपल नीम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
Paras Nath Jha
"परखना सीख जाओगे "
Slok maurya "umang"
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
Yogendra Chaturwedi
श्री कृष्णा
श्री कृष्णा
Surinder blackpen
"प्रेम कभी नफरत का समर्थक नहीं रहा है ll
पूर्वार्थ
नरसिंह अवतार
नरसिंह अवतार
Shashi kala vyas
लगाव
लगाव
Rajni kapoor
में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
Anil chobisa
फारवर्डेड लव मैसेज
फारवर्डेड लव मैसेज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#एक_तथ्य-
#एक_तथ्य-
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी के तूफानों में हर पल चिराग लिए फिरता हूॅ॑
जिंदगी के तूफानों में हर पल चिराग लिए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
जिंदगी एक किराये का घर है।
जिंदगी एक किराये का घर है।
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
चौपाई छंद में मान्य 16 मात्रा वाले दस छंद {सूक्ष्म अंतर से
चौपाई छंद में मान्य 16 मात्रा वाले दस छंद {सूक्ष्म अंतर से
Subhash Singhai
दर्द अपना है
दर्द अपना है
Dr fauzia Naseem shad
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
मुझे अपनी दुल्हन तुम्हें नहीं बनाना है
gurudeenverma198
अचानक से
अचानक से
Dr. Kishan tandon kranti
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
सेजल गोस्वामी
🏛️ *दालान* 🏛️
🏛️ *दालान* 🏛️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मासूमियत
मासूमियत
Punam Pande
💐प्रेम कौतुक-511💐
💐प्रेम कौतुक-511💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम नहीं बदले___
तुम नहीं बदले___
Rajesh vyas
!! चमन का सिपाही !!
!! चमन का सिपाही !!
Chunnu Lal Gupta
जात आदमी के
जात आदमी के
AJAY AMITABH SUMAN
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ४)
Kanchan Khanna
Loading...