Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

सही पंथ पर चले जो

ऊपर बैठा देख रहा
प्रभु सबके गुण कर्म
उसने हिस्से में लिखा
मानवता का ही धर्म
सही पंथ पर चले जो
वो पुण्य के भागीदार
पथ से विचलन देता
जीवन में कष्ट अपार
ममता, करुणा, स्नेह
दया रब के हैं उपहार
रब की कृपा से ही करे
हर मनुष्य परोपकार
हे प्रभु जीवन पथ को
बनाइए सुकृति से युक्त
मानवता का ख्याल रख
करूं हर कार्य उपयुक्त

Language: Hindi
83 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तारों के मोती अम्बर में।
तारों के मोती अम्बर में।
Anil Mishra Prahari
एक मैसेज सुबह करते है
एक मैसेज सुबह करते है
शेखर सिंह
पानी  के छींटें में भी  दम बहुत है
पानी के छींटें में भी दम बहुत है
Paras Nath Jha
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
Shyam Sundar Subramanian
वक़्त के साथ वो
वक़्त के साथ वो
Dr fauzia Naseem shad
"साँसों के मांझी"
Dr. Kishan tandon kranti
करारा नोट
करारा नोट
Punam Pande
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बेटा
बेटा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज सबको हुई मुहब्बत है।
आज सबको हुई मुहब्बत है।
सत्य कुमार प्रेमी
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
Ranjeet kumar patre
कुछ लोग रिश्ते में व्यवसायी होते हैं,
कुछ लोग रिश्ते में व्यवसायी होते हैं,
Vindhya Prakash Mishra
" खुशी में डूब जाते हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
मैं कौन हूँ?मेरा कौन है ?सोच तो मेरे भाई.....
मैं कौन हूँ?मेरा कौन है ?सोच तो मेरे भाई.....
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
■ ज़िंदगी मुग़ालतों का नाम।
■ ज़िंदगी मुग़ालतों का नाम।
*Author प्रणय प्रभात*
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
Rj Anand Prajapati
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
नफरत थी तुम्हें हमसे
नफरत थी तुम्हें हमसे
Swami Ganganiya
मूझे वो अकेडमी वाला इश्क़ फ़िर से करना हैं,
मूझे वो अकेडमी वाला इश्क़ फ़िर से करना हैं,
Lohit Tamta
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
Shashi kala vyas
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़र हो इजाजत
ग़र हो इजाजत
हिमांशु Kulshrestha
पिता का पता
पिता का पता
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
जिंदगी
जिंदगी
Bodhisatva kastooriya
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
Shekhar Chandra Mitra
Loading...