Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 15, 2016 · 1 min read

सहिष्णु

एक मुक्तक।

कल तक तो इन सबको देखो होती चिंता भारी थी।
बात बात पर जीभ सभी की पैनी छुरी कटारी थी।
आज सहिष्णु चुप बैठे हैं घाटी के हालातों पर।
शायद उस आतंकी से इन सबकी रिश्तेदारी थी।

प्रदीप कुमार

1 Like · 1 Comment · 142 Views
You may also like:
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
**किताब**
Dr. Alpa H. Amin
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
Jyoti Khari
#15_जून
Ravi Prakash
मेघो से प्रार्थना
Ram Krishan Rastogi
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
KAMAL THAKUR
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये जिन्दगी एक तराना है।
Taj Mohammad
आपातकाल
Shriyansh Gupta
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
*सभी को चाँद है प्यारा ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
Ravi Prakash
थोड़ी मेहनत और कर लो
Nitu Sah
✍️लोग जमसे गये है।✍️
"अशांत" शेखर
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
*आत्मा का स्वभाव भक्ति है : कुरुक्षेत्र इस्कॉन के अध्यक्ष...
Ravi Prakash
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां तेरे आंचल को।
Taj Mohammad
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
नूर
Alok Saxena
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
लांगुरिया
Subhash Singhai
ભીની ભીની લાગણી.....
Dr. Alpa H. Amin
Loading...