Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

सहित्य में हमे गहरी रुचि है।

सहित्य में हमे गहरी रुचि है।
जरूरी नही जीतना ,
हारना भी एक कला है।

3 Likes · 2 Comments · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
बरपा बारिश का कहर, फसल खड़ी तैयार।
बरपा बारिश का कहर, फसल खड़ी तैयार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
Shashi kala vyas
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
Try to find .....
Try to find .....
पूर्वार्थ
वो इबादत
वो इबादत
Dr fauzia Naseem shad
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
Ajay Kumar Vimal
আমি তোমাকে ভালোবাসি
আমি তোমাকে ভালোবাসি
Otteri Selvakumar
चलो♥️
चलो♥️
Srishty Bansal
*ये आती और जाती सांसें*
*ये आती और जाती सांसें*
sudhir kumar
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
Manoj Mahato
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
Suryakant Dwivedi
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*सच पूछो तो बहुत दिया, तुमने आभार तुम्हारा 【हिंदी गजल/गीतिका
*सच पूछो तो बहुत दिया, तुमने आभार तुम्हारा 【हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
मांँ
मांँ
Neelam Sharma
"तुर्रम खान"
Dr. Kishan tandon kranti
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
*हिंदी मेरे देश की जुबान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुनील गावस्कर
सुनील गावस्कर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पेड़ से कौन बाते करता है ।
पेड़ से कौन बाते करता है ।
Buddha Prakash
"फ़िर से आज तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
कभी लगे  इस ओर है,
कभी लगे इस ओर है,
sushil sarna
माथे की बिंदिया
माथे की बिंदिया
Pankaj Bindas
In adverse circumstances, neither the behavior nor the festi
In adverse circumstances, neither the behavior nor the festi
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
Rj Anand Prajapati
हो भासा विग्यानी।
हो भासा विग्यानी।
Acharya Rama Nand Mandal
पूस की रात
पूस की रात
Atul "Krishn"
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
Sanjay ' शून्य'
यदि हर कोई आपसे खुश है,
यदि हर कोई आपसे खुश है,
नेताम आर सी
Loading...