Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2023 · 1 min read

“सस्ते” लोगों से

“सस्ते” लोगों से
यारी या रिश्तेदारी
अक़्सर “मंहगी” पड़ती है।
भूलिएगा मत…!!

★प्रणय प्रभात★

2 Likes · 149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोशिश
कोशिश
Dr fauzia Naseem shad
"आधुनिक नारी"
Ekta chitrangini
3128.*पूर्णिका*
3128.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
--: पत्थर  :--
--: पत्थर :--
Dhirendra Singh
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
सारे  ज़माने  बीत  गये
सारे ज़माने बीत गये
shabina. Naaz
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
महानगर के पेड़ों की व्यथा
महानगर के पेड़ों की व्यथा
Anil Kumar Mishra
जननी-अपना देश (कुंडलिया)
जननी-अपना देश (कुंडलिया)
Ravi Prakash
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
तुम्हारी दुआ।
तुम्हारी दुआ।
सत्य कुमार प्रेमी
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
ruby kumari
शेर
शेर
SHAMA PARVEEN
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
Harminder Kaur
इस क़दर उलझे हुए हैं अपनी नई ज़िंदगी से,
इस क़दर उलझे हुए हैं अपनी नई ज़िंदगी से,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सत्य
सत्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सौगंध
सौगंध
Shriyansh Gupta
जाति-धर्म
जाति-धर्म
लक्ष्मी सिंह
राम पर हाइकु
राम पर हाइकु
Sandeep Pande
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
भ्रम नेता का
भ्रम नेता का
Sanjay ' शून्य'
मेरी पहली चाहत था तू
मेरी पहली चाहत था तू
Dr Manju Saini
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मैं घमंडी नहीं हूँ
मैं घमंडी नहीं हूँ
Dr. Man Mohan Krishna
👍
👍
*प्रणय प्रभात*
सरोकार
सरोकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
महादान
महादान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जय श्री राम।
जय श्री राम।
Anil Mishra Prahari
ଧରା ଜଳେ ନିଦାଘରେ
ଧରା ଜଳେ ନିଦାଘରେ
Bidyadhar Mantry
Loading...