Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Dec 2023 · 1 min read

सवाल

खाट पर पड़े दो नैनों में, सवाल बस यही एक आया है,
इस इंतज़ार के लम्हों में, कौन अपना कौन पराया है।
जिन अबोधों को शब्द दिया, वाण शब्दों के उन्होंने हीं चलाया है,
जिन पगों को चलना सिखाया, उन्होंने घर के पथ को भुलाया है।
शैय्या पर मृत्यु की आ पड़ा, “तुझे देखे कौन” ये सवाल उठ आया है,
जिसे कंधे पर उठाते ना थका, उसने हीं बोझ बताया है।
विडंबना है काल की ऐसी, कभी शक्तिशाली थी, रुग्ण वो काया है,
काँपते इन हाथों में, क्यों हाथ किसी का ना आया है।
बोझिल हृदय, मौन हैं शब्द, धड़कनों ने पीड़ा को दर्शाया है,
कैसे फूल हैं इस बगिया के, जिन्होंने माली को ठुकराया है।
जीवन के इस विस्मृत क्षण में, स्मृति ने भी झुठलाया है,
लहू जो एक रंग होता था कभी, उसे रंगहीन आज पाया है।

123 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुछ लोग किरदार ऐसा लाजवाब रखते हैं।
कुछ लोग किरदार ऐसा लाजवाब रखते हैं।
Surinder blackpen
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
3216.*पूर्णिका*
3216.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
'व्यथित मानवता'
'व्यथित मानवता'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हे सर्दी रानी कब आएगी तू,
हे सर्दी रानी कब आएगी तू,
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ अवध की शाम
■ अवध की शाम
*Author प्रणय प्रभात*
14, मायका
14, मायका
Dr Shweta sood
इंसान तो मैं भी हूं लेकिन मेरे व्यवहार और सस्कार
इंसान तो मैं भी हूं लेकिन मेरे व्यवहार और सस्कार
Ranjeet kumar patre
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
देखता हूँ बार बार घड़ी की तरफ
देखता हूँ बार बार घड़ी की तरफ
gurudeenverma198
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
दोहा त्रयी. . . शंका
दोहा त्रयी. . . शंका
sushil sarna
नया सपना
नया सपना
Kanchan Khanna
इतना हमने भी
इतना हमने भी
Dr fauzia Naseem shad
सच तो हम तुम बने हैं
सच तो हम तुम बने हैं
Neeraj Agarwal
"फेड्डल और अव्वल"
Dr. Kishan tandon kranti
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
Ravi Prakash
एक सन्त: श्रीगुरु तेग बहादुर
एक सन्त: श्रीगुरु तेग बहादुर
Satish Srijan
अनुराग
अनुराग
Sanjay ' शून्य'
देव विनायक वंदना
देव विनायक वंदना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नारी
नारी
नन्दलाल सुथार "राही"
वक्त  क्या  बिगड़ा तो लोग बुराई में जा लगे।
वक्त क्या बिगड़ा तो लोग बुराई में जा लगे।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
दवा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर,
दवा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर,
Vishal babu (vishu)
बँटवारा
बँटवारा
Shriyansh Gupta
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुश्किल है कितना
मुश्किल है कितना
Swami Ganganiya
#कुछ खामियां
#कुछ खामियां
Amulyaa Ratan
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
यदि कोई केवल जरूरत पड़ने पर
नेताम आर सी
Loading...