Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jan 2023 · 1 min read

सवाल में ज़िन्दगी के आयाम नए वो दिखाते हैं, और जवाब में वैराग्य की राह में हमें भटकाते हैं।

बिखरते हैं लम्हें, तो ख़्वाब भी रुलाते हैं,
झलक खुशियों की दिखाकर, वो अँधेरे लौट आते हैं।
दुआएं सलामती की, जिसके लिए मांगे जाते हैं,
वही अपनों के बीच, हमें हीं पराया बनाते हैं।
राहों से हमारी यूँ हीं टकरा जाते हैं,
और राहें हमने रोकीं, ये इल्जाम भी लगाते हैं।
रूह की गहराईयों में, जिससे बंधन बांधे जाते हैं,
वही जल्दबाज़ी का नाम दे, रूह को रुसवा कर जाते हैं।
मुस्कुराहटों को जीवन में भरने की, कसमें जो हर पल खाते हैं,
वही मुस्कुराहटों को, अपनी आहटों का इंतज़ार दे जाते हैं।
आँखों को नयी रौशनी का आसमां जो दिखाते हैं,
वही नींदे भी सोती आँखों, से चुरा कर लिए जाते हैं।
कहानी को नया मोड़ देने के वादे वो कर के आते हैं,
और फिर हमसे, हमारी कहानी भी छीन जाते हैं।
सवाल में ज़िन्दगी के आयाम नए वो दिखाते हैं,
और जवाब में वैराग्य की राह में हमें भटकाते हैं।

2 Likes · 272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
शक्कर में ही घोलिए,
शक्कर में ही घोलिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*चुप रहने की आदत है*
*चुप रहने की आदत है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐प्रेम कौतुक-316💐
💐प्रेम कौतुक-316💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ईश्वर का घर
ईश्वर का घर
Dr MusafiR BaithA
माता रानी दर्श का
माता रानी दर्श का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
Manisha Manjari
रंगोली
रंगोली
Neelam Sharma
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
लगा ले कोई भी रंग हमसें छुपने को
लगा ले कोई भी रंग हमसें छुपने को
Sonu sugandh
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
Vishal babu (vishu)
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
Ram Krishan Rastogi
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2503.पूर्णिका
2503.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चुनाव 2024
चुनाव 2024
Bodhisatva kastooriya
■ बस, इतना कहना काफ़ी है।
■ बस, इतना कहना काफ़ी है।
*Author प्रणय प्रभात*
*भर कर बोरी रंग पधारा, सरकारी दफ्तर में (हास्य होली गीत)*
*भर कर बोरी रंग पधारा, सरकारी दफ्तर में (हास्य होली गीत)*
Ravi Prakash
*सम्मति*
*सम्मति*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"अपदस्थ"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल धड़क उठा
दिल धड़क उठा
Surinder blackpen
भारत चाँद पर छाया हैं…
भारत चाँद पर छाया हैं…
शांतिलाल सोनी
జయ శ్రీ రామ...
జయ శ్రీ రామ...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
श्री गणेशा
श्री गणेशा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
शक्ति साधना सब करें
शक्ति साधना सब करें
surenderpal vaidya
" दूरियां"
Pushpraj Anant
भटक ना जाना तुम।
भटक ना जाना तुम।
Taj Mohammad
बदली है मुफ़लिसी की तिज़ारत अभी यहाँ
बदली है मुफ़लिसी की तिज़ारत अभी यहाँ
Mahendra Narayan
Loading...