Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 22, 2016 · 1 min read

सवाल तुमसे…..

कभी देखा है
अग्निमुख नग के
साये में बसे
घरों की लुटी पिटी
तहस नहस
दुनिया…
टुकड़ों में कटी
दरारों में फटी
खुले ज़ख्म सी टीसती
रिसती दुनिया
कैसा लगता है जब
जलते लावे में घुला मलबा
गन्दे विचारों सा
उबल पड़ता है
बिखर जाता है
करीने से सजे कमरों पर
बरसने लगती है
टनों राख
मरे हुए रिश्तों की….
और दब जाते हैं
सब जिन्दा इन्सान भी
उसी के नीचे…।
जब जब आता है
बवंडर
घूमती हैं प्रलयंकर
हवाएँ
उखड़ते हैं जमे हुए
दरख़्त
और खिंच जाती हैं रेखाएं
मृत और अर्धमृत के मध्य
और याद आते हैं मुझे
बेतरह
जमीन का सीना चीर कर
झाँकते
मोहनजोदोडो के
खंडित शिवाले
माचू पिचू के सुनसान
टूटे खंडहर
बामियान के उजड़े
भग्न मंदिर
मानती हूँ बारूद
अपेक्षित है
नवनिर्माण से पूर्व
पर क्या निर्माण संभव है
आपके बिना
नत हत विहत
मैं आपसे पूछती हूँ
प्रणवीश…?

2 Comments · 182 Views
You may also like:
जिंदगी का मशवरा
Krishan Singh
कभी-कभी आते जीवन में...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
जिंदगी की कुछ सच्ची तस्वीरें
Ram Krishan Rastogi
तेरी सलामती।
Taj Mohammad
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
पिता
KAMAL THAKUR
【29】!!*!! करवाचौथ !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
💐प्रेम की राह पर-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
.✍️साथीला तूच हवे✍️
"अशांत" शेखर
✍️अपना ही सवाल✍️
"अशांत" शेखर
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
रिश्तों की बदलती परिभाषा
Anamika Singh
परदेश
DESH RAJ
अग्रवाल धर्मशाला में संगीतमय श्री रामकथा
Ravi Prakash
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपने मंजिल को पाऊँगा मैं
Utsav Kumar Aarya
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️एक ख़ता✍️
"अशांत" शेखर
Loading...