Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2022 · 1 min read

सवर्ण और दलित

तब तक
हम दोनों
बिल्कुल
बचकाने थे
जब तक
हम दोनों
दोस्त थे!
जब से
तुम सवर्ण
और मैं
दलित हुआ
तब से
हम दोनों
एकदम
सयाने हो गए!!
#नौजवान #shayar #youth #love
#Caste #जाति_प्रथा #वर्ण_व्यवस्था #प्रेम
#धर्म #महाकवि #विद्रोही #चेतना

Language: Hindi
1 Like · 144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
Surinder blackpen
अनुभूति, चिन्तन तथा अभिव्यक्ति की त्रिवेणी ... “ हुई हैं चाँद से बातें हमारी “.
अनुभूति, चिन्तन तथा अभिव्यक्ति की त्रिवेणी ... “ हुई हैं चाँद से बातें हमारी “.
Dr Archana Gupta
रोला छंद
रोला छंद
sushil sarna
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
Dr MusafiR BaithA
Gulab ke hasin khab bunne wali
Gulab ke hasin khab bunne wali
Sakshi Tripathi
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
VINOD CHAUHAN
गुरु असीम ज्ञानों का दाता 🌷🙏
गुरु असीम ज्ञानों का दाता 🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
किसको फुर्सत है रखी, किसको रोता कौन (हास्य कुंडलिया)
किसको फुर्सत है रखी, किसको रोता कौन (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
करूण संवेदना
करूण संवेदना
Ritu Asooja
ख़ुद ब ख़ुद
ख़ुद ब ख़ुद
Dr. Rajeev Jain
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
दिन ढले तो ढले
दिन ढले तो ढले
Dr.Pratibha Prakash
"ज्ञान रूपी दीपक"
Yogendra Chaturwedi
"कौआ"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Harminder Kaur
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
Dr.Rashmi Mishra
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जन्मदिवस विशेष 🌼
जन्मदिवस विशेष 🌼
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
3118.*पूर्णिका*
3118.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो भी आते हैं वो बस तोड़ के चल देते हैं
जो भी आते हैं वो बस तोड़ के चल देते हैं
अंसार एटवी
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
Keshav kishor Kumar
#एक_ही_तमन्ना
#एक_ही_तमन्ना
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क़ में कोई
इश्क़ में कोई
लक्ष्मी सिंह
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
गुप्तरत्न
//खलती तेरी जुदाई//
//खलती तेरी जुदाई//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
Indulge, Live and Love
Indulge, Live and Love
Dhriti Mishra
........,?
........,?
शेखर सिंह
कागज़ ए जिंदगी
कागज़ ए जिंदगी
Neeraj Agarwal
Loading...