Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2018 · 1 min read

सर्दी

……..
१.
कोहरे की छाया घनी धूप खीली ना आज,
बिद्यालय सब बंद हुये माँ के बढ गए काज।
माँ के बढगये काज काम हर दिन से ज्यादा,
पकवान छनौरी बन रही पनीर दो प्याजा।।
कहे ‘सचिन’कविराय ठंड से मन भी सीहरे
सूरज का हड़ताल दिखें कोहरे हीं कोहरे।।


जाड़ा ने इस वर्ष भी, किया खड़ा है खांट,
सर्दी इतनी बढ गई, काम करे ना हाथ।
काम करे ना हाथ, रजाई छोड़ें कैसे,
ठंढा पानी डाल, नहायें धोयें कैसे।
पानी छूते हीं दिन में दिखता तारा,
कोट स्वेटर पहनलो फिर भी लगता जाड़ा।।
…..
©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

573 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
यूं आंखों से ओझल हो चली हो,
यूं आंखों से ओझल हो चली हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*जिन्होंने बैंक से कर्जे को, लेकर फिर न लौटाया ( हिंदी गजल/
*जिन्होंने बैंक से कर्जे को, लेकर फिर न लौटाया ( हिंदी गजल/
Ravi Prakash
इश्क
इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
पर्वत को आसमान छूने के लिए
पर्वत को आसमान छूने के लिए
उमेश बैरवा
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
कुछ अपनी कुछ उनकी बातें।
सत्य कुमार प्रेमी
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुस्सा दिलाकर ,
गुस्सा दिलाकर ,
Umender kumar
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
होली मुबारक
होली मुबारक
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रे ! मेरे मन-मीत !!
रे ! मेरे मन-मीत !!
Ramswaroop Dinkar
तिरंगा बोल रहा आसमान
तिरंगा बोल रहा आसमान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
55…Munsarah musaddas matvii maksuuf
55…Munsarah musaddas matvii maksuuf
sushil yadav
Rainbow on my window!
Rainbow on my window!
Rachana
अश्लील वीडियो बनाकर नाम कमाने की कृत्य करने वाली बेटियों, सा
अश्लील वीडियो बनाकर नाम कमाने की कृत्य करने वाली बेटियों, सा
Anand Kumar
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
सिर्फ खुशी में आना तुम
सिर्फ खुशी में आना तुम
Jitendra Chhonkar
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
किसी ने अपनी पत्नी को पढ़ाया और पत्नी ने पढ़ लिखकर उसके साथ धो
ruby kumari
वक्त-वक्त की बात है
वक्त-वक्त की बात है
Pratibha Pandey
3357.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3357.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
खामोशी मेरी मैं गुन,गुनाना चाहता हूं
पूर्वार्थ
आंधी है नए गांधी
आंधी है नए गांधी
Sanjay ' शून्य'
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
Dr. Man Mohan Krishna
🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹
🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹
Dr Shweta sood
"कुछ अनकही"
Ekta chitrangini
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
Ranjeet kumar patre
-        🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
- 🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
Mahima shukla
"बिना बहर और वज़न की
*प्रणय प्रभात*
Loading...