Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2023 · 1 min read

*सर्दियों में एक टुकड़ा, धूप कैसे खाइए (हिंदी गजल)*

सर्दियों में एक टुकड़ा, धूप कैसे खाइए (हिंदी गजल)
—————————————-
1)
सर्दियों में एक टुकड़ा, धूप कैसे खाइए
अब बुढ़ापा आ चुका है, कैसे छत पर जाइए
2)
सर्दियों की धूप बूढ़ी, देह से कहने लगी
हम तुम्हारे तुम हमारे, अब नहीं हो पाइए
3)
सर्दियों की धूप छत पर, सब ने खाई है मगर
वह जवानी थी न उसकी, याद और दिलाइए
4)
हम भटकते फिर रहे हैं, इस गली उस द्वार-घर
सर्दियों में चहचहाती, धूप तो दिखलाइए
5)
धूप जाड़ों की बिके तो, सौदा यह महॅंगा नहीं
धूप मुट्ठी भर कहीं से, दे तिजोरी लाइए
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997 615 451

219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ओम् के दोहे
ओम् के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तेरे इंतज़ार में
तेरे इंतज़ार में
Surinder blackpen
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं तुझसे बेज़ार बहुत
मैं तुझसे बेज़ार बहुत
Shweta Soni
फागुन होली
फागुन होली
Khaimsingh Saini
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*हीरे को परखना है,*
*हीरे को परखना है,*
नेताम आर सी
2931.*पूर्णिका*
2931.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
ब्यूटी विद ब्रेन
ब्यूटी विद ब्रेन
Shekhar Chandra Mitra
बीते हुए दिन बचपन के
बीते हुए दिन बचपन के
Dr.Pratibha Prakash
आज़माइश
आज़माइश
Dr. Seema Varma
हमेशा..!!
हमेशा..!!
'अशांत' शेखर
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
+जागृत देवी+
+जागृत देवी+
Ms.Ankit Halke jha
चाह और आह!
चाह और आह!
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
Vishal babu (vishu)
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"रचो ऐसा इतिहास"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तो महज शमशान हूँ
मैं तो महज शमशान हूँ
VINOD CHAUHAN
आपकी सोच
आपकी सोच
Dr fauzia Naseem shad
में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
Anil chobisa
देखो भालू आया
देखो भालू आया
अनिल "आदर्श"
अब तो
अब तो "वायरस" के भी
*प्रणय प्रभात*
"लिखना कुछ जोखिम का काम भी है और सिर्फ ईमानदारी अपने आप में
Dr MusafiR BaithA
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*अपने  शहर  का आज का अखबार देखना  (हिंदी गजल/गीतिका)*
*अपने शहर का आज का अखबार देखना (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
Kuldeep mishra (KD)
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
पूर्वार्थ
Loading...