Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2024 · 1 min read

सर्दियों का मौसम – खुशगवार नहीं है

ये सर्दी – ये धुंध भी ना मेरी दुश्मन है
औरों की तरह- ये खुशगवार नहीं है
किसी ना किसी तरह , तेरी याद ताज़ा रखती है
पहाड़ी पगडंडियों पर चीड़ के पत्तों से टपकी
ओस की ये बूँदें चीड़ की मादक ख़ुश्बू
मेरे चेहरे पर तेरे बालों से टपकती बूंदों को
ज़िंदा कर देती हैं

वो मंद मंद बयार , वो सरसराती पत्तियाँ
और ढलती शाम की गहराती स्याही,
ठंढ से बढ़ती धुन्ध मे छिपी धुँधली सी परछाईं
क्यूँ लगता है के दबे पाँव आज भी
मेरे पीछे आ रही हो

जानता हूँ – सच नहीं है पर फिर भी
पलट के देख लूँ , जी तो बहुत करता है
कुछ देर – थम तो जाता हूँ –
तेरे पास पास होने का एहसास
महसूस करता हूँ –
पर इस भरम के टूटने के डर से
बस पलटता नहीं हूँ

71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
ज़माने की निगाहों से कैसे तुझपे एतबार करु।
ज़माने की निगाहों से कैसे तुझपे एतबार करु।
Phool gufran
ज़रा इतिहास तुम रच दो
ज़रा इतिहास तुम रच दो "
DrLakshman Jha Parimal
पैसा
पैसा
Kanchan Khanna
काले काले बादल आयें
काले काले बादल आयें
Chunnu Lal Gupta
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
Shweta Soni
मेरी भावों में डूबी ग़ज़ल आप हैं
मेरी भावों में डूबी ग़ज़ल आप हैं
Dr Archana Gupta
वन गमन
वन गमन
Shashi Mahajan
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
Sandeep Kumar
बढ़ती तपीस
बढ़ती तपीस
शेखर सिंह
जाने दिया
जाने दिया
Kunal Prashant
*
*"नमामि देवी नर्मदे"*
Shashi kala vyas
"प्रकाशित कृति को चर्चा में लाने का एकमात्र माध्यम है- सटीक
*प्रणय प्रभात*
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
Neelam Sharma
कुछ तो मेरी वफ़ा का
कुछ तो मेरी वफ़ा का
Dr fauzia Naseem shad
मां
मां
Sûrëkhâ
**माटी जन्मभूमि की**
**माटी जन्मभूमि की**
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
I've lost myself
I've lost myself
VINOD CHAUHAN
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
गणेश चतुर्थी
गणेश चतुर्थी
Surinder blackpen
रंज-ओ-सितम से दूर फिरसे इश्क की हो इब्तिदा,
रंज-ओ-सितम से दूर फिरसे इश्क की हो इब्तिदा,
Kalamkash
चक्रव्यूह की राजनीति
चक्रव्यूह की राजनीति
Dr Parveen Thakur
ग़ज़ल
ग़ज़ल
SURYA PRAKASH SHARMA
प्रेम ही जीवन है।
प्रेम ही जीवन है।
Acharya Rama Nand Mandal
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
*ड्राइंग-रूम में सजी सुंदर पुस्तकें (हास्य व्यंग्य)*
*ड्राइंग-रूम में सजी सुंदर पुस्तकें (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
*बादल*
*बादल*
Santosh kumar Miri
Loading...