Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2020 · 1 min read

सर्जिकल स्ट्राइक

रौद्र रूप देख थर्रायी है,धरती पाकिस्तान की ।
कफ़न बाँध कर रण में उतरी,मिट्टी हिन्दुस्तान की ।

छेड़ रहे थे सिंहों को,थी चर्चा स्वाभिमान की ।
बालाकोट में गरज रही हैं,मूँछे हिंदुस्तान की ।

छेड़ रहे हो छेड़ो पर तुम,अपनी जद को भूलो ना ।
ज्वाला बनकर धधक जाएगी,चिंगारी से खेलो ना ।

नींद कहाँ से आती हमको,पुलवामा के शोर में ।
इसीलिए तो तड़के उठकर,मचल पड़े हम भोर में ।

निकल पड़े रणबीच दीवाने,मिटने को बेताब हुए ।
अंधियारों में चेहरे चमके,जैसे वो महताब हुए ।

लश्कर हिज़बुल जैसों को,औक़ात बताने आए हैं ।
मोदी जी के सिने का,सौग़ात बताने आए हैं ।

इन सिंहों को रोक सको,ये तेरे बस की बात नहीं ।
इनको क़ाबू करना तेरी,इतनी भी औक़ात नहीं ।

✍?✍?धीरेन्द्र पांचाल …..

Language: Hindi
1 Like · 245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
गीत प्यार के ही गाता रहूं ।
Rajesh vyas
"वेश्या का धर्म"
Ekta chitrangini
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
// प्रसन्नता //
// प्रसन्नता //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
रंग कैसे कैसे
रंग कैसे कैसे
Preeti Sharma Aseem
आंगन को तरसता एक घर ....
आंगन को तरसता एक घर ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
gurudeenverma198
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
ਮੁੜ ਆ ਸੱਜਣਾ
Surinder blackpen
असतो मा सद्गमय
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
"दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
*थियोसोफी के अनुसार मृत्यु के बाद का जीवन*
*थियोसोफी के अनुसार मृत्यु के बाद का जीवन*
Ravi Prakash
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
तुम्ही बताओ आज सभासद है ये प्रशन महान
तुम्ही बताओ आज सभासद है ये प्रशन महान
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
“बदलते रिश्ते”
“बदलते रिश्ते”
पंकज कुमार कर्ण
बह्र 2122 2122 212 फ़ाईलातुन फ़ाईलातुन फ़ाईलुन
बह्र 2122 2122 212 फ़ाईलातुन फ़ाईलातुन फ़ाईलुन
Neelam Sharma
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
है हार तुम्ही से जीत मेरी,
कृष्णकांत गुर्जर
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Lokesh Sharma
मन में संदिग्ध हो
मन में संदिग्ध हो
Rituraj shivem verma
"प्रेम"
शेखर सिंह
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सत्य दीप जलता हुआ,
सत्य दीप जलता हुआ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शब की रातों में जब चाँद पर तारे हो जाते हैं,
शब की रातों में जब चाँद पर तारे हो जाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
Shweta Soni
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
■ कामयाबी का नुस्खा...
■ कामयाबी का नुस्खा...
*प्रणय प्रभात*
संघर्षी वृक्ष
संघर्षी वृक्ष
Vikram soni
Loading...