Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2017 · 1 min read

सरिता

सरिता
हिम शिखर से निकल
राह मेरी बड़ी कठिन विकल
चलूं मै इठलाती
इतराती सी
परवाह नही मुझे कभी
राह की
हो मैंदान या गहरी खाई
चलूं रेंगती कभी
गाती आई
दुर्गम वन हो या
उच्च श्रृंखला
मै तो कभी नही
उकताई
टकराती पाषाण भेदती
राहे अपनी मैंने स्वयं
बनाई बूझो तो मैं कौन
हूॅ भाई?
कोई कहे नदिया कोई तटिनी
पर सुप्रचलित इनमें
सरिता माई।

सुधा भारद्वाज
विकासनगर उत्तराखण्ड

Language: Hindi
434 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बहुत गुमाँ है समुंदर को अपनी नमकीन जुबाँ का..!
बहुत गुमाँ है समुंदर को अपनी नमकीन जुबाँ का..!
'अशांत' शेखर
मन से हरो दर्प औ अभिमान
मन से हरो दर्प औ अभिमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
Rj Anand Prajapati
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
Rekha khichi
सावन का महीना है भरतार
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
शेखर सिंह
■ व्यंग्य आलेख- काहे का प्रोटोकॉल...?
■ व्यंग्य आलेख- काहे का प्रोटोकॉल...?
*Author प्रणय प्रभात*
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
क्षतिपूर्ति
क्षतिपूर्ति
Shweta Soni
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
Manoj Mahato
आइसक्रीम के बहाने
आइसक्रीम के बहाने
Dr. Pradeep Kumar Sharma
24, *ईक्सवी- सदी*
24, *ईक्सवी- सदी*
Dr Shweta sood
तलाशता हूँ -
तलाशता हूँ - "प्रणय यात्रा" के निशाँ  
Atul "Krishn"
नसीहत
नसीहत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
फुटपाथ की ठंड
फुटपाथ की ठंड
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बुलेट ट्रेन की तरह है, सुपर फास्ट सब यार।
बुलेट ट्रेन की तरह है, सुपर फास्ट सब यार।
सत्य कुमार प्रेमी
9) खबर है इनकार तेरा
9) खबर है इनकार तेरा
पूनम झा 'प्रथमा'
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
Kshma Urmila
"बताओ"
Dr. Kishan tandon kranti
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
भरोसा खुद पर
भरोसा खुद पर
Mukesh Kumar Sonkar
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
वक़्त वो सबसे ही जुदा होगा
वक़्त वो सबसे ही जुदा होगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*ढोलक (बाल कविता)*
*ढोलक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
★संघर्ष जीवन का★
★संघर्ष जीवन का★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
जो मौका रहनुमाई का मिला है
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
चिड़िया रानी
चिड़िया रानी
नन्दलाल सुथार "राही"
तेज़
तेज़
Sanjay ' शून्य'
बेवफा
बेवफा
नेताम आर सी
Loading...