Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

सरस्वती वंदना

ओ….. कंठ पे आजा माँ शारदे
वंदना तेरी गाऊँ…
तुझे नित नित शीश नवा कर
हो ओ…..
… कंठ पे आजा माँ शारदे
वीणा में तू है, वादन में तू है
तू ही तो माँ हर गायन मे तू है
दे दे ओ मुझे ज्ञान का सागर
पूजा करु मैं रात और दिन में
वंदना तरी गाऊँ….
गीता में तू है, वेदों में तू है
तू ही तो माँ रामायण में तू है
ओ….. कंठ पे आजा माँ शारदे
वंदना तेरी गाऊँ…
तुझे नित नित शीश नवा कर
हो ओ…..
… कंठ पे आजा माँ शारदे

Language: Hindi
37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिव स्वर्ग, शिव मोक्ष,
शिव स्वर्ग, शिव मोक्ष,
Atul "Krishn"
💐अज्ञात के प्रति-110💐
💐अज्ञात के प्रति-110💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
शिव प्रताप लोधी
ईद मुबारक
ईद मुबारक
Satish Srijan
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
🙅दस्तूर दुनिया का🙅
🙅दस्तूर दुनिया का🙅
*Author प्रणय प्रभात*
धरा और हरियाली
धरा और हरियाली
Buddha Prakash
आभा पंखी से बढ़ी ,
आभा पंखी से बढ़ी ,
Rashmi Sanjay
एक गुनगुनी धूप
एक गुनगुनी धूप
Saraswati Bajpai
*दादा-दादी (बाल कविता)*
*दादा-दादी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*
*"मुस्कराने की वजह सिर्फ तुम्हीं हो"*
Shashi kala vyas
"स्मार्ट कौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
यहाँ तो मात -पिता
यहाँ तो मात -पिता
DrLakshman Jha Parimal
नयन
नयन
डॉक्टर रागिनी
इस दुनियां में अलग अलग लोगों का बसेरा है,
इस दुनियां में अलग अलग लोगों का बसेरा है,
Mansi Tripathi
जीवन में कम से कम एक ऐसा दोस्त जरूर होना चाहिए ,जिससे गर सप्
जीवन में कम से कम एक ऐसा दोस्त जरूर होना चाहिए ,जिससे गर सप्
ruby kumari
2956.*पूर्णिका*
2956.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*भरोसा हो तो*
*भरोसा हो तो*
नेताम आर सी
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गजल
गजल
Punam Pande
मैं को तुम
मैं को तुम
Dr fauzia Naseem shad
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कभी मोहब्बत के लिए मरता नहीं था
कभी मोहब्बत के लिए मरता नहीं था
Rituraj shivem verma
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
डी. के. निवातिया
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
बेरोजगार
बेरोजगार
Harminder Kaur
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
पूर्वार्थ
Loading...