Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2023 · 1 min read

सरस्वती वंदना-4

गीतिका

हंसवाहिनी के चरणों में,जो भी शीश झुकायेगा।
भक्ति भाव श्रद्धा से वह ही,कृपा मातु की पायेगा।।1

भाव प्रवाहित कल कल छल छल,माँ ही उर में करती हैं,
बिना मातु की कृपा सोच ले,कैसे कलम चलायेगा ।2

सुभग विचारों की सरिता का,स्रोत शारदा माता हैं,
वरदहस्त उनका सिर होगा,तभी गीत तू गायेगा।3

यति गति नव लय ताल छंद को,जन्म दिया है माता ने,
बिना वंदना के माता की,कैसे उन्हें कमायेगा।4

पाल दर्प का सर्प कभी भी,चलना ठीक नहीं समझे,
रूठ गईं यदि मातु शारदा, फिर पीछे पछताएगा।5

करें समर्पित लेखन सारा,नित प्रति माँ के चरणों में,
माँ ने चाहा तो लेखन में,नित निखार फिर आयेगा।6

गीत गज़ल कुछ भी लिखना हो,लिखो प्रेम की भाषा में,
बाँट लिए दुख दर्द जगत के, तो तू नाम कमायेगा।7
डाॅ. बिपिन पाण्डेय

Language: Hindi
195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"लोगों की सोच"
Yogendra Chaturwedi
कब तक यूँ आजमाएंगे हमसे कहो हुजूर
कब तक यूँ आजमाएंगे हमसे कहो हुजूर
VINOD CHAUHAN
#क़तआ
#क़तआ
*प्रणय प्रभात*
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
!! पुलिस अर्थात रक्षक !!
Akash Yadav
मोबाइल
मोबाइल
Punam Pande
निश्छल प्रेम के बदले वंचना
निश्छल प्रेम के बदले वंचना
Koमल कुmari
खयालों ख्वाब पर कब्जा मुझे अच्छा नहीं लगता
खयालों ख्वाब पर कब्जा मुझे अच्छा नहीं लगता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
साहिल के समंदर दरिया मौज,
साहिल के समंदर दरिया मौज,
Sahil Ahmad
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
Shivam Sharma
Me and My Yoga Mat!
Me and My Yoga Mat!
R. H. SRIDEVI
एक समय वो था
एक समय वो था
Dr.Rashmi Mishra
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
लक्ष्मी सिंह
"वक्त वक्त की बात"
Pushpraj Anant
"लक्षण"
Dr. Kishan tandon kranti
शब्द : एक
शब्द : एक
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
किसी की लाचारी पर,
किसी की लाचारी पर,
Dr. Man Mohan Krishna
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
*सॉंप और सीढ़ी का देखो, कैसा अद्भुत खेल (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"" *पेड़ों की पुकार* ""
सुनीलानंद महंत
Experience Life
Experience Life
Saransh Singh 'Priyam'
मे गांव का लड़का हु इसलिए
मे गांव का लड़का हु इसलिए
Ranjeet kumar patre
उपहार
उपहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उफ्फ्फ
उफ्फ्फ
Atul "Krishn"
टिक टिक टिक
टिक टिक टिक
Ghanshyam Poddar
"रातरानी"
Ekta chitrangini
आपकी खुशी
आपकी खुशी
Dr fauzia Naseem shad
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
It’s all be worthless if you lose your people on the way..
It’s all be worthless if you lose your people on the way..
पूर्वार्थ
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...