Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

सरस्वती बंदना

तेरा नाम है अमर सदा, हे माँ सरस्वती।
हे हंसवाहिनी माँ, आसन है कमल तेरी।।

स्वर दे – वर दे हे माँ, तेरे हाथ में है वीणा
पुस्तक गीता रहतीं, हर चंद साथ में माँ
दुनियाँ में महिमा की है गीत अमर तेरी।
हे हंसवाहिनी माँ, आसन है कमल तेरी।।

हर मानव को देती, जिसे जो भी लगा प्यारा
मुझे शरण में रख लो माँ, मैं जग से हुं हारा
गुणवान बना देती, आये जो शरण तेरी।
हे हंसवाहिनी माँ, आसन है कमल तेरी।।

अज्ञान तेरा बेटा, दर्शन के लिए आया
देवी विद्या की तू, दे ज्ञान की माँ छाया
अज्ञान बड़ा हुं माँ, दे ज्ञान बढ़ा मेरी।
हे हंसवाहिनी माँ, आसन है कमल तेरी।।

✍️ बसंत भगवान राय
(धुन: होटों से छू लो तुम)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
राज़ की बात
राज़ की बात
Shaily
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
लोग जाम पीना सीखते हैं
लोग जाम पीना सीखते हैं
Satish Srijan
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
कविता
कविता
Rambali Mishra
"स्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
पूर्वार्थ
भंडारे की पूड़ियाँ, देसी घी का स्वाद( हास्य कुंडलिया)
भंडारे की पूड़ियाँ, देसी घी का स्वाद( हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
#कृतज्ञतापूर्ण_नमन
#कृतज्ञतापूर्ण_नमन
*प्रणय प्रभात*
गुरु हो साथ तो मंजिल अधूरा हो नही सकता
गुरु हो साथ तो मंजिल अधूरा हो नही सकता
Diwakar Mahto
उम्र का एक
उम्र का एक
Santosh Shrivastava
इंतजार करते रहे हम उनके  एक दीदार के लिए ।
इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
Yogendra Chaturwedi
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पानी जैसा बनो रे मानव
पानी जैसा बनो रे मानव
Neelam Sharma
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
हे दिल ओ दिल, तेरी याद बहुत आती है हमको
gurudeenverma198
" कभी नहीं साथ छोड़ेंगे "
DrLakshman Jha Parimal
सच तो यही हैं।
सच तो यही हैं।
Neeraj Agarwal
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
बेजुबाँ सा है इश्क़ मेरा,
बेजुबाँ सा है इश्क़ मेरा,
शेखर सिंह
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
अभिषेक किसनराव रेठे
नशा
नशा
Mamta Rani
मेरी अना को मेरी खुद्दारी कहो या ज़िम्मेदारी,
मेरी अना को मेरी खुद्दारी कहो या ज़िम्मेदारी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ऐसी थी बेख़्याली
ऐसी थी बेख़्याली
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम लौटता है धीमे से
प्रेम लौटता है धीमे से
Surinder blackpen
2841.*पूर्णिका*
2841.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
कवि रमेशराज
साँप और इंसान
साँप और इंसान
Prakash Chandra
आगे बढ़ने दे नहीं,
आगे बढ़ने दे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सफलता
सफलता
Vandna Thakur
Loading...