Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2023 · 1 min read

*सरस्वती जी दीजिए, छंद और रस-ज्ञान (आठ दोहे)*

सरस्वती जी दीजिए, छंद और रस-ज्ञान (आठ दोहे)
(बालकांड के श्लोकों से प्रेरित दोहे)
_________________________
1
सरस्वती जी दीजिए, छंद और रस-ज्ञान
मंगलमय आशीष दें, श्री गणेश भगवान
2
सदा भवानी और शिव, दें मुझको वरदान
देखूॅं अंतर में बसे, सुंदर कृपानिधान
3
वंदनीय गुरुदेव शिव, जिनकी देन महान
टेढ़ा यद्यपि चंद्रमा, पाता जग में मान
4
जिनके मन सीता बसीं, जिनके मन अभिराम
वालमीकि हनुमान को, सौ-सौ बार प्रणाम
5
नमन-नमन सीता नमन, नमन-नमन सौ बार
कल्याणी रखतीं जगत, करती हैं संहार
6
दृश्य-जगत भ्रम मानिए, तरने वाले राम
वंदनीय वश में किए, असुर-देव सब नाम
7
राम न दशरथ-पुत्र हैं, राम-नाम अभिराम
जग के स्वामी राम हैं, राम ब्रह्म का नाम
8
धन्य-धन्य जो तृण नहीं, लोभ-मोह के पास
अंतर के सुख के लिए, लिखते तुलसीदास
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

930 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
अखंड भारत
अखंड भारत
कार्तिक नितिन शर्मा
ज़िंदगी पर तो
ज़िंदगी पर तो
Dr fauzia Naseem shad
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika S Dhara
खोजें समस्याओं का समाधान
खोजें समस्याओं का समाधान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
I've washed my hands of you
I've washed my hands of you
पूर्वार्थ
*राजा राम सिंह चालीसा*
*राजा राम सिंह चालीसा*
Ravi Prakash
2857.*पूर्णिका*
2857.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
উত্তর দাও পাহাড়
উত্তর দাও পাহাড়
Arghyadeep Chakraborty
" तेरा एहसान "
Dr Meenu Poonia
सरस्वती वंदना-6
सरस्वती वंदना-6
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
जन्नतों में सैर करने के आदी हैं हम,
लवकुश यादव "अज़ल"
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सिकन्दर बनकर क्या करना
सिकन्दर बनकर क्या करना
Satish Srijan
हाँ, मैं कवि हूँ
हाँ, मैं कवि हूँ
gurudeenverma198
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
हर विषम से विषम परिस्थिति में भी शांत रहना सबसे अच्छा हथियार
Ankita Patel
फितरत
फितरत
Sidhartha Mishra
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
षड्यंत्रों की कमी नहीं है
Suryakant Dwivedi
मुझे याद आता है मेरा गांव
मुझे याद आता है मेरा गांव
Adarsh Awasthi
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
Anil chobisa
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
Dr. Harvinder Singh Bakshi
💐प्रेम कौतुक-448💐
💐प्रेम कौतुक-448💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माई बेस्ट फ्रैंड ''रौनक''
माई बेस्ट फ्रैंड ''रौनक''
लक्की सिंह चौहान
बुंदेली दोहा-
बुंदेली दोहा- "पैचान" (पहचान) भाग-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बात का जबाब बात है
बात का जबाब बात है
शेखर सिंह
संगीत................... जीवन है
संगीत................... जीवन है
Neeraj Agarwal
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
sushil sarna
Loading...