Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2022 · 4 min read

सरसी छंद और विधाएं

#सरसीछंद~
इसे तीन अन्य नामों से भी जाना जाता है।
#हरिपद छंद /#सुमंदर छंद/#कबीर छंद
किंतु प्रचलित नाम सरसी छंद है {( सरसी का शाब्दिक अर्थ होता है ,- जलाशय जो छंद के गुणानुरुप नाम है )
इस छंद का, अष्ट छाप के कवियों में सूरदास जी नंददास जी ने , व तुलसीदास जी मीराबाई जी ने अपने कई पद काव्यों में बहुत प्रयोग किया है , जिससे इसे भिखारीदास जी ने हरिपद (भगवान की स्तुति करने वाला ) #हरिपद छंद कहा है }।

होली के दिनों में गाया जानेवाला कबीर भी इसी छंद में गाया जाता है। जिसके अंत में #जोगीरा #सा #रा #रा #रा, लगाया जाता है, इसीलिए इसे #कबीर छंद नाम भी मिला है

इस छंद में कथ्य भाव सागर की गहराई सा पाया गया है, इस लिए इसे समंदर / #सुमंदर छंद नाम भी मिला है ।

सरसी छंद
छंद जानिए प्यारा सरसी , सोलह-ग्यारह भार |
कहे सुमंदर हरिपद कबिरा, चार नाम उपहार ||
विषम चरण है चौपाई‌ सा, सम दोहा का मान |
चार चरण में इसको जानो, यह सुभाष संज्ञान ||

#चौपाई का एक चरण (नियम सहित ) + #दोहे का सम चरण (नियम सहित ) = #सरसी छंद……..

सरसी छंद में चार चरण और 2 पद होते हैं । इसके विषम चरणों में 16-16 मात्राएं ( चौपाई चाल में ) और सम चरणों में 11-11 मात्राएं होती हैं ।( दोहे के सम चरण की तरह ) । इस प्रकार #सरसी छंद में 27 मात्राओं के 2 पद होते हैं । मूल छंद की दो दो पंक्तियांँ अथवा चारों पंक्तियांँ सम तुकान्त होती हैं।

१६ मात्राओं की यति २२ या ११२ या , २११ या ११११.से अधिमान्य‌ होती है ।
#तगण (२२१), #रगण (२१२), #जगण ( १२१) #वर्जित हैं
~~~~~~~~~~~~~
आप इस छंद में छ: विधाएं लिख सकते हैं।
1- मूल छंद
2- मुक्तक
3- कबिरा जोगीरा
4- गीत
5 – गीतिका
6 – पद काव्य

चार चरण और दो पद में सरसी छंद
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

कपटी करते मीठी बातें , खूब दिखाते प्यार |
हित अनहित को नहीं विचारें , करें पीठ पर बार ||
बने शिकारी दाना डालें , पीछे करें शिकार |
सज्जन को यह घाती बनते , सबको देते खार ||

अब यही छंद. मुक्तक में

कपटी करते मीठी बातें , खूब दिखाते प्यार |
हित अनहित को नहीं विचारें , करें पीठ पर बार ||
बने शिकारी दाना डालें , पीछे देते मात –
सज्जन को यह घाती बनते , सबको देते खार ||
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
सरसी छंद (कबिरा जोगीरा )

मिला फैसला, देकर लाखों, अफसर बड़ा महान |
सौ रुपया ले फाइल खोजी , बाबू बेईमान ||
जोगीरा सा रा रा रा

एक फीट की गहराई में , शौचालय निर्माण |
जाँच कमेटी माप गई है, मीटर आठ प्रमाण ||
जोगीरा सा रा रा रा

कर्ज मिले जब भी सरकारी, समझो तुम बादाम |
नेता देते माफी भैया, जब चुनाव हो आम ||
जोगीरा सा रा रा रा

ओढ़‌ रजाई घी पी लेना , अवसर. अच्छा जान |
इसी तरह यह भारत.चलता , नेता देते दान ||
जोगीरा सा रा रा रा

नहीं खोजने जाना तुमको , मिल जाएँगे लोग |
एक बुलाओ दस आएँगे , पालो चमचा रोग ||,
जोगीरा सा रा रा रा

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

सरसी छंद में हिंदी गीत (कम से कम तीन और अधिकतम चार अंतरा )

समाधान भी खोज निकाले , कहलाता है धीर |{मुखड़ा)
संकट जब-जब भी आता है , खुद निपटाता वीर |(टेक)

हँसी उड़ाते पर पीड़ा में , जो भी मेरे यार | (अंतरा )
रोते हैं वह बैठ सदा ही , खुद पर जब तलवार ||
लोग‌ साथ से हट जाते‌ हैं , मिलती उसको‌ हार‌ |
जिसने बांँटे दोनों हाथों , सबको हरदम खार ||

इसीलिए तो सज्जन कहते , रखो‌ दया का‌ नीर |(पूरक)
संकट जब- जब भी आता है , खुद निपटाता वीर || (टेक)

अपनी-अपनी ढपली बजती , अपना-अपना राग (अंतरा)
अवसर पाकर देते है‌ बस , बदनामी‌ के दाग ||
लोकतंत्र में गजब तमाशा , जुड़ जाते हैं काग |
खूब फेंकते बिषधर बनकर, दूर- दूर तक झाग ||

सदा अंँगूठा दिखलाकर ही , खल खाते हैं खीर |(पूरक)
संकट जब-जब भी आता है , खुद निपटाता‌ वीर ||(टेक)

खल करते संदेश प्रसारित,लोग‌ न देते ध्यान (अंतरा)
यहाँ सनातन से देखा है ,सबका हुआ निदान ||
लोग‌‌ साथ भी दे़ देते हैं , रखते‌ ऊँची शान |
अपनाकर सद्भाव सदा ही, करते हैं उत्थान ||

धैर्य वान की कीमत होती , जैसे पन्ना हीर |(पूरक)
संकट जब -जब भी आते हैं , खुद
निपटाता वीर (टेक )|~`~~~~~~~~~~~~~~
सरसी छंद अपदांत गीतिका समांत-आन,
****
फितरत, नफरत की ईंटों से , पूरा बना मकान ,
लेकर झंडा शोर मचाते, यह है आलीशान |

नहीं बात में कुछ रस रहता , बाते‌ंं रहतीं फेक ,
तानसेन के पिता‌ बने हैं , उल्टा‌ सीधा गान |

खड़े‌ मंच. पर नेता जी हैं , भाषण लच्छेदार ,
ताली चमचे पीट रहे हैं , वाह-वाह की तान |

छिन्न-भिन्न सब करते रहते , फिर भी‌ हैं उस्ताद ,
फिर भी अपनी गलती पर वह, कभी न देते ध्यान |

सच “सुभाष” ने जब बोला है , रुष्ट हुए है‌ं लोग ,
दूजों को मूरख बतलाते , खुद बनते‌ श्रीमान |

नहीं सृजन में हाथ रहा है , नहीं मनन में खोज ,
मीन – मेख के महारथी हैं, बांँट रहे हैं ज्ञान |

बने देवता हिंदी के हैं , समझ न आती बात ,
खतना करते हिंदी की जब , मुझे दर्द का भान |
~`~~~“~
सरसी में पद काव्य

मैया ! मेरी रखियो आन |
द्वार खड़ा हूँ माता तेरे , करता‌ हूँ गुणगान ||
भाव सहित है अर्चन वंदन ,चरणों में नित ध्यान |
संकट कटते तेरी शरणा , मिले कृपा का दान ||
मंगल मूरत मेरी मैया , जग की दया निधान |
शरण सुभाषा पूजा करता , मैया की अब शान ||
~~~~~~~~
सुभाष सिंघई ( एम•ए• हिंदी साहित्य, दर्शन शास्त्र)

आलेख- सरल सहज भाव शब्दों से छंद को समझाने का प्रयास किया है , वर्तनी व कहीं मात्रा दोष , समांत पदांत दोष हो तो परिमार्जन करके ग्राह करें!!

Language: Hindi
Tag: लेख
4 Likes · 1 Comment · 3745 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
Keshav kishor Kumar
कसम खाकर मैं कहता हूँ कि उस दिन मर ही जाता हूँ
कसम खाकर मैं कहता हूँ कि उस दिन मर ही जाता हूँ
Johnny Ahmed 'क़ैस'
तू सीमा बेवफा है
तू सीमा बेवफा है
gurudeenverma198
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr.Priya Soni Khare
बालि हनुमान मलयुद्ध
बालि हनुमान मलयुद्ध
Anil chobisa
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
कवि रमेशराज
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
पूर्वार्थ
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ओनिका सेतिया 'अनु '
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ
करार दे
करार दे
SHAMA PARVEEN
युवा है हम
युवा है हम
Pratibha Pandey
*आए लंका जीत कर, नगर अयोध्या-धाम(कुंडलिया)*
*आए लंका जीत कर, नगर अयोध्या-धाम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"रुपया"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे तुमसे अनुराग कितना है?
मुझे तुमसे अनुराग कितना है?
Bodhisatva kastooriya
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
मन अलग चलता है, मेरे साथ नहीं,
मन अलग चलता है, मेरे साथ नहीं,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
अब मेरे दिन के गुजारे भी नहीं होते हैं साकी,
अब मेरे दिन के गुजारे भी नहीं होते हैं साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
3371⚘ *पूर्णिका* ⚘
3371⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
चुनाव
चुनाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
Sukoon
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
"टमाटर" ऐसी चीज़ नहीं
*प्रणय प्रभात*
शेखर ✍️
शेखर ✍️
शेखर सिंह
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
#कुछ खामियां
#कुछ खामियां
Amulyaa Ratan
Loading...