Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 7, 2022 · 1 min read

सरल हो बैठे

तेरी अम्बक की “हाला” में,
चित को आज” भिगो” कर बैठे।।
शायद कोई “क्षण” जाए जाए,
सोंच के यही” सरल ” हो बैठे।।
मिलन की “आस” लगा कर के हम,
पहुँच गए” पनघट” के किनारे।।
शायद आएगी वो” सारंग”
जल पीने “पनघट” के किनारे।
सोंच रहे थे “घाट” पे बैठे।
मेरे “चक्षु” विकल हो बैठे।।
शायद कोई “क्षण” मिल जाये।
सोंच के यही”सरल” हो बैठे।।
आकर के उस “म्रगनयनी” ने।
घाट पे जब अपना “पट” खोल।।
मेरे मन के “विश्वामित्र” ने।
ईप्सा की “अपलक” को खोल।।
मन्दाकिनी में उस “काया” को।
हम तो नित्य” दर्श” कर बैठे।।
शायद कोई “क्षण” मिल जाये।
सोंच के यही “सरल” हो बैठे।।
हम दोनों में “एक”दूजे की।
मिलन के लिए “विकलता” ऐसी।।
पर दोनों ये “सोंच” रहे थे।
मिलन की कौन”पहल” कर बैठे।
शायद कोई “क्षण “मिल जाये।
सोंच के यही “सरल” हो बैठे।।
मन ही मन मे “फिर” दोनों ने।
खुद से ख़ुद “बातें” कर डाली।।
मेरे इस मन के “मधुबन” में।
आ जाओ “बन” कर बनवारी।।
मैं हूँ “राधा”तेरी मोहन ।
म्रगनयनी के “बयन” सुन बैठे।।
मन हो गया मेरा “उपवन” सा।
भाव मे “बृन्दावन” भर बैठे।।
शायद कोई “क्षण”मिल जाये।
सोंच के यही “सरल”हो बैठे।।
आशीष सिंह
लखनऊ उत्तर प्रदेश

1 Like · 279 Views
You may also like:
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
इंतजार
Anamika Singh
संघर्ष
Sushil chauhan
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
इश्क
Anamika Singh
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Neha Sharma
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
Loading...