Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2022 · 1 min read

सरल हो बैठे

तेरी अम्बक की “हाला” में,
चित को आज” भिगो” कर बैठे।।
शायद कोई “क्षण” जाए जाए,
सोंच के यही” सरल ” हो बैठे।।
मिलन की “आस” लगा कर के हम,
पहुँच गए” पनघट” के किनारे।।
शायद आएगी वो” सारंग”
जल पीने “पनघट” के किनारे।
सोंच रहे थे “घाट” पे बैठे।
मेरे “चक्षु” विकल हो बैठे।।
शायद कोई “क्षण” मिल जाये।
सोंच के यही”सरल” हो बैठे।।
आकर के उस “म्रगनयनी” ने।
घाट पे जब अपना “पट” खोल।।
मेरे मन के “विश्वामित्र” ने।
ईप्सा की “अपलक” को खोल।।
मन्दाकिनी में उस “काया” को।
हम तो नित्य” दर्श” कर बैठे।।
शायद कोई “क्षण” मिल जाये।
सोंच के यही “सरल” हो बैठे।।
हम दोनों में “एक”दूजे की।
मिलन के लिए “विकलता” ऐसी।।
पर दोनों ये “सोंच” रहे थे।
मिलन की कौन”पहल” कर बैठे।
शायद कोई “क्षण “मिल जाये।
सोंच के यही “सरल” हो बैठे।।
मन ही मन मे “फिर” दोनों ने।
खुद से ख़ुद “बातें” कर डाली।।
मेरे इस मन के “मधुबन” में।
आ जाओ “बन” कर बनवारी।।
मैं हूँ “राधा”तेरी मोहन ।
म्रगनयनी के “बयन” सुन बैठे।।
मन हो गया मेरा “उपवन” सा।
भाव मे “बृन्दावन” भर बैठे।।
शायद कोई “क्षण”मिल जाये।
सोंच के यही “सरल”हो बैठे।।
आशीष सिंह
लखनऊ उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 457 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
जो भी पाना है उसको खोना है
जो भी पाना है उसको खोना है
Shweta Soni
💐प्रेम कौतुक-199💐
💐प्रेम कौतुक-199💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नीला सफेद रंग सच और रहस्य का सहयोग हैं
नीला सफेद रंग सच और रहस्य का सहयोग हैं
Neeraj Agarwal
सीखने की भूख
सीखने की भूख
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
बच्चों सम्भल लो तुम
बच्चों सम्भल लो तुम
gurudeenverma198
धनमद
धनमद
Sanjay ' शून्य'
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
Dr Archana Gupta
चमकते तारों में हमने आपको,
चमकते तारों में हमने आपको,
Ashu Sharma
लिखें और लोगों से जुड़ना सीखें
लिखें और लोगों से जुड़ना सीखें
DrLakshman Jha Parimal
न बदले...!
न बदले...!
Srishty Bansal
"गुल्लक"
Dr. Kishan tandon kranti
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
Paras Nath Jha
* विजयदशमी *
* विजयदशमी *
surenderpal vaidya
❤बिना मतलब के जो बात करते है
❤बिना मतलब के जो बात करते है
Satyaveer vaishnav
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
कवि रमेशराज
Mujhe laga tha ki meri talash tum tak khatam ho jayegi
Mujhe laga tha ki meri talash tum tak khatam ho jayegi
Sakshi Tripathi
चुप रहना भी तो एक हल है।
चुप रहना भी तो एक हल है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बेवजह किसी पे मरता कौन है
बेवजह किसी पे मरता कौन है
Kumar lalit
*कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है (हिंदी गजल/गीतिका
*कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है (हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
2679.*पूर्णिका*
2679.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जाने कितने ख़त
जाने कितने ख़त
Ranjana Verma
उत्तम देह
उत्तम देह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक तिरंगा मुझको ला दो
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
अर्पण है...
अर्पण है...
Er. Sanjay Shrivastava
ये मेरे घर की चारदीवारी भी अब मुझसे पूछती है
ये मेरे घर की चारदीवारी भी अब मुझसे पूछती है
श्याम सिंह बिष्ट
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
कवि दीपक बवेजा
Loading...