Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

सम पर रहना

अपना मनचाहा, गर ,

ज्यादा होने लगे,

तो भी,

मन ,

उखड़ने सा लगता है।

हर समय विलासिता का,

परिवेश,

बैचैन करता है ,

और ,अत्यधिक

आनंद को ,

भी ,क्लेश ही

पकड़ लेता है।

उसकी,

हर हरकत

पर रखे हुए

अपनी नज़र।

इसीलिए, , भरपूर ,

सुख मे डूबकर,

हम जान ही नही पाते है,

कि,

जो भाव हमने

बहुत जतन से , बस, सुख पाने को

पाये हैं,

दरअसल,

उन सबके

क्लेशमय होने की

साजिश होती रही है।

इसलिए,

हद से

अधिक सुख ,

आराम ,चैन ,प्यार ,

पैसा

यह सब

क्लेश को

पैदा करने के

मुख्य बीज

हैं। बहुत देर

तक बहुत

मीठी गपशप

भी

एक समय के बाद

क्लेश ही हैं।

आनंद ही आनंद

समझ कर

दस दिन तक के लिए,

पाच सितारा होटल मे

बुक किया गया

सुविधाजनक कमरा

अब, तीन दिन बाद

क्लेश की विषैली

हवा बनकर

दूभर कर रहा जीना

2 Likes · 122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
मुकद्दर
मुकद्दर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
एक उम्र बहानों में गुजरी,
एक उम्र बहानों में गुजरी,
पूर्वार्थ
कल?
कल?
Neeraj Agarwal
2274.
2274.
Dr.Khedu Bharti
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
उम्र अपना
उम्र अपना
Dr fauzia Naseem shad
नव वर्ष (गीत)
नव वर्ष (गीत)
Ravi Prakash
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"उजला मुखड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
दर्द
दर्द
Bodhisatva kastooriya
रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
आदमी के नयन, न कुछ चयन कर सके
आदमी के नयन, न कुछ चयन कर सके
सिद्धार्थ गोरखपुरी
भारत का लाल
भारत का लाल
Aman Sinha
कार्ल मार्क्स
कार्ल मार्क्स
Shekhar Chandra Mitra
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
VINOD CHAUHAN
संवेदना की आस
संवेदना की आस
Ritu Asooja
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
कांधा होता हूं
कांधा होता हूं
Dheerja Sharma
सर्वोपरि है राष्ट्र
सर्वोपरि है राष्ट्र
Dr. Harvinder Singh Bakshi
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक कप कड़क चाय.....
एक कप कड़क चाय.....
Santosh Soni
सत्याधार का अवसान
सत्याधार का अवसान
Shyam Sundar Subramanian
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*तेरे साथ जीवन*
*तेरे साथ जीवन*
AVINASH (Avi...) MEHRA
तू  मेरी जान तू ही जिंदगी बन गई
तू मेरी जान तू ही जिंदगी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
अखबार
अखबार
लक्ष्मी सिंह
एक तरफ
एक तरफ
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...