Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

सम्मान से सम्मान

सम्मान से सम्मान
राजेश जी की बचपन से ही बड़ी इच्छा थी कि वे लगातार स्तरीय पत्र-पत्रिकाओं में छपते रहें। उनकी लिखी रचनाओं पर सभा, संगोष्ठियों में चर्चा हो। उन पर समीक्षाएँ लिखे जाएँ। उन्होंने बहुत कुछ लिखा भी, पर उनकी रचनाएँ गिनी-चुनी पत्र-पत्रिकाओं और सहयोग राशि के बदले छपने वाली पुस्तकों तक ही सीमित रहीं। उन पर कोई चर्चा तक नहीं होती। बस वे अलमारियों की शोभा बढ़ातीं।
लगभग तीन साल पहले एक साहित्यिक समारोह में कुछ बडे़ साहित्यकारों से मिलने के बाद उन्होंने अपने शहर में एक साहित्यिक संस्थान का गठन किया। जिले के कुछ नामचीन साहित्यकारों को अध्यक्ष, उपाध्यक्ष के पद पर बिठाते हुए स्वयं संस्थापक सचिव-समन्वयक बने रहे। अब उनकी संस्थान जन-सहयोग से प्रतिवर्ष ₹ 1110/-, 2100/- एवं 5100/- के कुल 11 राष्ट्रीय स्तर के साहित्यकारों, संपादकों को सम्मानित करती है, जिनके चयन के लिए गठित समिति में उन्हीं की चलती है।
अब तो राजेश जी की वही रचनाएँ उन्हीं बड़े-बड़े पत्र-पत्रिकाओं में छपती हैं, जहाँ से वे खेदसहित एक बार लौट आई थीं। यही नहीं हर महीना-दो महीना में उन्हें देश के विभिन्न शहरों की साहित्यिक संस्थानों से सम्मानित करने की सचित्र खबरें फेसबुक पर देखने-पढ़ने को मिलती हैं।
पिछले दिनों एक फेसबुक पोस्ट से पता चला कि उनके साहित्य पर देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों में सात शोधार्थियों ने पीएच.डी. के लिए भी पंजीयन कराया हुआ है।
-डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्यबोध
सत्यबोध
Bodhisatva kastooriya
मैथिली साहित्य मे परिवर्तन से आस जागल।
मैथिली साहित्य मे परिवर्तन से आस जागल।
Acharya Rama Nand Mandal
सजाया जायेगा तुझे
सजाया जायेगा तुझे
Vishal babu (vishu)
हाइकु (#हिन्दी)
हाइकु (#हिन्दी)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
21वीं सदी और भारतीय युवा
21वीं सदी और भारतीय युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
* हर परिस्थिति को निजी अनुसार कर लो(हिंदी गजल/गीतिका)*
* हर परिस्थिति को निजी अनुसार कर लो(हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
बिहार, दलित साहित्य और साहित्य के कुछ खट्टे-मीठे प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
बिहार, दलित साहित्य और साहित्य के कुछ खट्टे-मीठे प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
Rj Anand Prajapati
"व्याख्या-विहीन"
Dr. Kishan tandon kranti
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
कवि रमेशराज
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
नमस्कार मित्रो !
नमस्कार मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
😢हे माँ माताजी😢
😢हे माँ माताजी😢
*Author प्रणय प्रभात*
बासी रोटी...... एक सच
बासी रोटी...... एक सच
Neeraj Agarwal
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
वो बदल रहे हैं।
वो बदल रहे हैं।
Taj Mohammad
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"सपनों का सफर"
Pushpraj Anant
पर्यावरण और प्रकृति
पर्यावरण और प्रकृति
Dhriti Mishra
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
Phool gufran
सत्य का संधान
सत्य का संधान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
Kanchan Khanna
💐प्रेम कौतुक-548💐
💐प्रेम कौतुक-548💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
.....★.....
.....★.....
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सावन का महीना
सावन का महीना
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...